Published On : Fri, May 4th, 2018

गैस्ट्रो के 115 मरीज भर्ती, स्कूल में लगाना पड़ा कैंप

नागपुर: एक के बाद एक 115 गैस्ट्रो के मरीज एडमिट करने से जिले के नरखेड़ क्षेत्र स्थित टोलापार गांव में हाहाकार मच गया। अनेक नागरिकों को उल्टी और दस्त की शिकायत हुई। शुरुआत में दो नागरिकों की तबीयत बिगड़ने पर उन्हें ग्रामीण अस्पताल नरखेड़ में भर्ती कराया गया। धीरे-धीरे मरीजों की संख्या बढ़ने के कारण गैस्ट्रो के प्रकोप का अंदेशा हुआ तो महकमा सकते में आ गया। आनन-फानन में स्वास्थ्य विभाग द्वारा गांव की स्कूल में कैंप लगाया गया।

कई का घर पर भी उपचार
नरखेड़ के शासकीय अस्पताल में बुधवार तक करीब 31 मरीजों को भर्ती कराया जा चुका था। टोलापार के केंद्र में 12 मरीजों को उपचार किया जा रहा है। बताया गया है कि गांव में करीब 115 लोग बीमार हैं। इनमें से कुछ मरीज घर पर ही हैं, इसलिए कि इलाज की पर्याप्त व्यवस्था नहीं है।

दूषित जलापूर्ति से प्रकोप
नल योजना की पाइप लाइन में लिकेज होने से दूषित जलापूर्ति के चलते टोलापार में गैस्ट्रो बीमारी फैलने का प्राथमिक अनुमान है। 1 मई को गांव में एक विवाह समारोह था। गांव में लोग समारोह में शामिल हुए थे। पड़ोस के कोंढाली गांव में भी एक विवाह समारोह में टोलापार के अनेक लोग गए थे। विवाह समारोह में कुएं का पानी पीने से नागरिक गैस्ट्रो के शिकार होने का दावा स्वास्थ्य विभाग ने किया है।

जिला प्रशासन फेल : देशमुख
पूर्व मंत्री अनिल देशमुख ने मरीजों के स्वास्थ्य का हाल जानने के बाद कहा है कि जिला प्रशासन बढ़ती बीमारी पर नियंत्रण की उपाय योजना नहीं कर पा रहा है। पूर्व मंत्री के साथ जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. योगेश सवई, तहसील स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. शशांक व्यवहारे, तहसीलदार जयंत पाटील, सहायक बीडीओ मेश्राम, वैद्यकीय अधिकारी सुचिता वालके, नरेश अडसरे, गोपाल मडके, नाना मुलताईकर, संजय चरडे, सचिन चरडे, उदयन बंसोड, गोपाल टेकाडे उपस्थित थे।

जुटे हैं अधिकारी
उपचार के लिए 4 स्वास्थ्य अधिकारी, 4 स्वास्थ्य सेविका, 2 स्वास्थ्य सेवक, 1 फार्मासिस्ट और एक चपरासी को तैनात किया गया है। नरखेड़ ग्रामीण अस्पताल में फिलहाल 75 से अधिक गैस्ट्रो के मरीजों का उपचार किया जा रहा है।

स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची, उपाध्यक्ष डोनेकर भी गए
गैस्ट्रो के प्रकोप को देखते हुए जिला परिषद के स्वास्थ्य विभाग की टीम ने नरखेड़ तहसील के टोलापार गांव में डेरा डाल दिया है। जिनकी तबीयत नाजुक है, उन्हें नरखेड़ के ग्रामीण अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जिला परिषद उपाध्यक्ष तथा स्वास्थ्य समिति सभापति शरद डोनेकर टोलापार पहुंचे। मरीजों से मिलकर उनके स्वास्थ्य का हालचाल पूछा और स्वास्थ्य सेवा का जायजा लिया।