Published On : Wed, Nov 14th, 2018

हुँकार रैली को सफल बनाने के लिए संघ स्वयंसेवक मैदान में विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों को जोड़ने का प्रयास

Advertisement

नागपुर: अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आक्रामक मुद्रा में आ चुका है। संघ इस विषय में को लेकर देश में दोबारा बड़ा जन आंदोलन खड़ा करना चाहता है। मंदिर निर्माण को लेकर सरकार पर दबाव बनाने के लिए आगामी 25 नवंबर को देश के तीन शहरों अयोध्या,बैंगलोर और नागपुर में हुँकार रैली का आयोजन किया जा रहा है। इस रैली का नेतृत्व संत समाज के माध्यम से किया जाने वाला है। नागपुर में संघ का हेडक्वार्टर होने से निगाहें यहाँ होने वाली सभा पर लगी है जिसे सफ़ल बनाने के लिए आरएसएस की सभी इकाईयाँ जुटी है। शहर भर में जगह जगह विभिन्न आयोजन किये जा रहे है जिससे इस रैली को लेकर जनसमर्थन हासिल किया जा सके। बुधवार को रामनगर में सभा का आयोजन हो रहा है। साथ ही विभिन्न मंदिरों में महाआरती का आयोजन किया जा रहा है। 17 नवंबर को शहर के प्रसिद्ध राम मंदिर पोद्दारेश्वर राम मंदिर में महाआरती होगी। कई जगहों पर छोटी सभाओं और कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों से संवाद कर उन्हें कार्यक्रम में आने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

मंदिर निर्माण के लिए संघ की इस सभा को सफ़ल बनाने के लिए बीजेपी के नेताओं और कार्यकर्ताओं की पूरी फ़ौज लगी है। इसके अलावा विद्यार्थियों के बीच काम करने वाली अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को युवाओं से संवाद करने की ज़िम्मेदारी सौपी गई है। ईश्वर देशमुख शारीरिक महाविद्यालय के मैदान में आयोजित इस सभा में राम मंदिर आंदोलन से जुडी रही और देवी ऋतम्भरा उपस्थितों को अपना संबोधन देंगी।

Advertisement

संघ प्रमुख डॉ मोहन भागवत विजयदशमी के अवसर पर अपने उद्बोधन में राम मंदिर निर्माण को लेकर सरकार को किसी भी हाल में जल्द से जल्द कदम उठाने की ताक़ीद दे चुके है। संघ अपनी हुँकार रैली के माध्यम से जनता की माँग प्रदर्शित करने का प्रयास करेगा। इसलिए कोशिश है की इस आयोजन से अधिक से अधिक संख्या में लोगों को जोड़ा जाये।

सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचार
इस हुँकार रैली से लोगो को जोड़ने के लिए प्रचार तंत्र का पूरा इस्तेमाल किया जा रहा है। कार्यक्रम के लिए बैनर छपवाएं गए है जिसे वितरित किया जा रहा है इसके साथ ही मौजूदा दौर में प्रचार के प्रमुख तंत्र सोशल मीडिया का भी बखूबी इस्तेमाल किया जा रहा है। संघ और बीजेपी के कार्यकर्त्ता सोशल मीडिया के माध्यम से आयोजन की जानकारी पहुँचा रहे है। प्रमुख आयोजन से पहले होने वाली छोटी मोटी सभाओं और बैठकों से भी लोगों को जोड़ने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा रहा है।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement