Published On : Fri, Jul 11th, 2014

सावनेर में पुलिस सुस्त, रेत माफिया चुस्त


सुबह छापेमारी, शाम को करने लगते हैं चोरी


सावनेर

sand 2
एक एसएसपी पर रेत माफिया द्वारा हुए हमले से हड़बड़ाकर जागे पुलिस प्रशासन ने रेत चोरों पर छापेमारी की कार्रवाई अभी भी जारी रखी है, लेकिन पुलिस रेत चोरों पर रोक लगाने में अभी भी नाकाम ही है. रेत चोरों के हौसले इतने बुलंद हैं कि जिन पर सुबह छापेमारी की कार्रवाई होती है वही शाम को धड़ल्ले से रेत की चोरी में जुट जाते हैं और दूसरी जगह पर रेत का भंडारण करने लगते हैं. यानी नदी तट से रेत का अवैध उत्खनन और अन्यत्र भंडारण दोनों बदस्तूर जारी है.

कार्रवाई के नाम पर लीपापोती
इससे जहां प्रशासन की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़े किए जा रहे हैं, वहीं विभिन्न आरोप भी लगाए जा रहे हैं. वरिष्ठ अधिकारियों तक शिकायतें पहुंचने के बावजूद कार्रवाई के नाम पर केवल लीपापोती ही हो रही है. करोड़ों की रेत की चोरी करने वाले पकड़े जाने पर नाममात्र का जुर्माना भर छूट जाते हैं और फिर अपने काम में जुट जाते हैं. रेत चोरों पर उनके राजनीतिक आकाओं का वरदहस्त भी बताया जाता है.

sand
अवैध रेत-भंडार जब्त करें

समाजसेवी किशोर ढुंढेले ने कहा कि नागपुर जिले के अधिकारियों ने जिस तरह से कामठी और खापरखेड़ा के रेत चोरों और उनके आकाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की, ठीक वैसी ही कार्रवाई खापा और सावनेर में भी की जानी चाहिए. उन्होंने मांग की कि अवैध रेत-भंडारों को जब्त करने और उनके खिलाफ फौजदारी के कार्रवाई की जाए.

बागड़े के अनेक अवैध रेत-भंडार
बताया जाता है कि लहूकुमार बागड़े ने सावनेर सहित अनेक स्थानों पर अवैध रेत का भंडारण कर रखा है. बागड़े के अनेक नेताओं और तहसीलदार से भी मधुर संबंध बताए जाते हैं. क्या राजस्व अधिकारी और पुलिस उसके ठिकानों का पता लगा पाएंगे?