Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Fri, Mar 14th, 2014
    nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

    वर्ल्ड स्लीप डे : डॉ राजेश स्वर्णकार ने सुझाये नींद संबंधी समस्याओं के उपाय

    नागपुर न्यूज़।
    जहां आज यानि शुक्रवार को सारा विश्व वर्ल्ड स्लीप डे मना रहा है वहीँ नागपुर में बढ़ती नींद से जुड़ी समस्याओं के चलते इस विषय की गम्भीरता को समझना बेहाल ज़रूरी हो गया है। एक अध्ययन के मुताबिक नागपुर में हर चार में से एक वयस्क नींद से जुड़ी किसी न किसी समस्या से पीड़ित है। इसमें सबसे ज्यादा लोग ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया नामक व्याधि से ग्रस्त हैं। नागपुर टुडे ने नींद संबंधी समस्याओं पर शहर के सुप्रसिद्ध विशेषज्ञ एवं धंतोली स्थित गेटवेल हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ राजेश स्वर्णकार से चर्चा की।

    डॉ स्वर्णकार ने बताया कि आब्सट्रक्टिव स्लीपएपनिया (ओएसए) एक आम समस्या है जो सोते समय लोगों को सांस लेने की प्रक्रिया को प्रभावित करती है। सोते समय ओएसए से पिडि़त व्यक्ति के फेफड़ों में सामान्य तरीके से हवा प्रवाहित नहीं होती। हवा में प्रवाह के अवरूद्ध होने का कारण सामान्यतः सोते समय जीभ और गले के पीछे (ऊपरी हवा प्रवाह) के षाफ्ट टिष्यूज का नश्ट हो जाना है।

    एपनिया का अर्थ सांस न ले पाना है। ओएसए के दौरान कुछ समय के लिए आप सांस लेना बंद कर देते है। यहां तक कि जब आप सांस लेने की कोषिष करते हैं तो आपके फेफड़ों में थोडी हवा जाती है या एकदम प्रवाहित नहीं होती। हवा के प्रवाह में यह ठहराव (आब्सट्रक्टिव एपनिया) उस समय सोने के दौरान बंद कर सकता है, और इसके चलते आ सेकेंड में जाग जाते हैं। एपनियां अक्सर कइ समस्याओं का कारण बन सकते है। अगर इनका इलाज न किया जाए तो गंभीर बीमारियां हो सकती है। पुरूशों और महिलाओं में मोनोपाज के बाद आएसए का होना बहुत सामान्य बात है। और 65 साल की उम्र के बाद भी इसका अधिक होना साधारण बात है। ओएसए बच्चों में भी हो सकता है। तमाम एज ग्रुप के लोगों में ओएसए का खतरा बढ़ रहा है। जो लोग ओवरवेट हैं उनमें स्लीप एपनियां की ज्यादा संभावना होती है। जिन लोगों की टांसिलें या एडनाॅएड लंबी हैं उनमें ओएसए हो सकता है। उन परिवारों में भी ओएसए हो सकता हैं जहां जबड़े की समस्याएँ हे। जबड़े की समस्या वाले लोगों को गला खोलने में मुष्किल आती है। इस तरह की स्थितियों को माइकग्रंथिया कहते हैं।

    आब्सट्रक्टिव स्लीम एपनिया के लक्षण क्या हैं।

    यहां बहुत से संकेत है जो आपके स्वास्थ्य प्रदाता को बता देते हैं कि आपको आएसए है। आप को यह जानकारी नहीं होती कि आपको ओएसए हैं, लेकिन ये लक्षण एक पति-पत्नी, परिवार के दूसरे सदस्यों या घनिश्ठ मित्रों को स्पश्ट संकेत दे देते हैं।
    नीद के दौरान आपको यह आम लक्षण हो सकता हैं।

     खर्रांटे लेना जो कि आमतौर पर जोर का होता है और आपके निकट सोने वालों के लिए परेषानी बन जाता है। खर्राटे पूरी रात आते जाते रहते हैं।
     हांफना या दम घुटना।
     आपको सोते समय देखने पर सांस लेने में रूकावट दिखें।
     षरीर की गतिविधि में अचानक या झटके आना।
     बेचैने में पटकना और मोड़ना।
     नीद में अक्सर जाग जाना।
    सामान्य लक्षण जब आप जाग जाते है।
     जागने पर अधिक न सोने का अनुभव जबकि कई घंटे तक सोये हों। हीं सोये थे।
     सुबह में सिरदर्द
     सुबह में गला में सूखा या खुरदरापन महसूस हो जब रात में सोते समय मुह से सांस ली हो
     दिन में नींद आती हो
     थकान महसूस हो या दिन में थकान लगे
     व्यक्तित्व में बदलाव, जैसे कि मूड बदल जाए और दूसरों के साथ कठिनाई आने लगे।
     याददाष्त की समस्या या एकाग्रता खत्म होना।

    क्या ओएसए खतरनाक हो सकता हैं?
    नींद की कमी के चलते ड्राइविंग के दौरान आप सो जाएं और परिणाम स्वरूप् कार दुर्घटना। सांस रूकने की अवधि में समय के साथ, हाई ब्लड प्रेषर, दिल की बीमारियां, दिल का दौरा या समय से पहले मौत हो सकती है।
    मैं कैसे जानूंगा कि मुझे ओएसए है?

    ऊपर ओएसए के लक्षण बताए गए हैं। वे मूल्यांकन में आपकी मदद करेंगे। अपने स्वास्थ्य प्रदाता के साथ अपनी समस्या पर चर्चा किजिए। वे आपकी कई मुष्किलों का हल निकाल देंगे। और तय किजिए कि बाकी समस्याओं का निदान नींद अध्ययन केंद्र में होगा।
    ओएसए का निदान एक नींद अध्ययन केंद्र में किया जाएगा। सामान्यतः नींद का अध्ययन नींद अध्ययन केंद्र में किया जाता हैं जहां आपकी पूरी रात की नींद का कार्यक्रम बनेगा। इस दौरान आपकी सांस, दिल की धडकन, नींद की दषा की मानीटरिंग की जाएगी।
    आब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया का इलाज कैसे होता हैं?

    स्लीप एपनिया का इलाज प्रभावी ढंग से किया जा सकता है, और इसे कइ तरह से किया जाता है। किस तरह के इलाज की अनुषंसा की जाए यह स्लीप एपनिया की तिव्रता और कारण पर निर्भर करता है। अगर आपका ओएसए ओवरवेट कारण पर निर्भर करता है। अगर आपका ओएसए ओवरवेट के कारण है तो वनज कम करके एपनियां से मुक्ति पाई जा सकती हैं। आप सोने से चार घंटे पहले से षराब न पींए अगर आप पीठ के बल सोते हैं तो आप अपनी तरफ सोने के दबाव के लिए तकिया या दूसरी चीज का उपयोग कर सकते हैं। कुछ लोग यह याद रखने के लिए कि उन्हें बैक में नहीं सोना है पजामे के निचे टेनिस बाल रखते हैं।

    कंटिनुअस पाजिटिव एअरवे प्रेषर थेरपी (सीपीएपी) एक आम उपकरण है जिसका उपयोग इलाज में किया जाता हैं। अधिकांष स्थितियों में कंप्रेषर द्वारा ओएसए और सीपीएपी प्रदान किया जाता है जो (आॅक्सिजन या बिना आक्सीजन के) मांस्क में हवा फेंकता है जो कि नाक के ऊपर या मुंह पर बंध होता है। हवा का प्रवाह एक पट्टी की तरह काम करता है ताकि ऊपरी हवाइ रास्ते को नश्ट होने से बचाए। यह आब्सट्रक्षन और एपनियां को घटने से रोकने में सहायता करता है। हवा के दबाव को एक सेटिंग के माध्यम से बचाया जाता है जो एपनिया का बेहतर कंट्रोल हैं। जब कोई व्यक्ति सीपीएपी पहने होता है तो कम खर्राटें लेता है। यहां उपकरण और सर्जरीज हैं जिनसे ओएसए का लाज किया जा सकता है एपनिया का क्या कारण है उस पर उपकरण और सर्जरी किस तरह की होगी इसका निर्धारण होगा। कुछ उपकरण (ओरल डिवाइस कहा जाता है) जिन्हें सोते समय मुंह में बांधते हैं ताकि वे आपके हवा मार्ग को खुला रखें। अधिकांष मौखिक उपकरण या तो जबड़े को आगे लाते हैं या जीभ को गला अवरूद्ध करने से दूर रखते हैं। ओरल उपकरण अधिकांष ऐसे व्यक्ति की सहायता करते हैं जो कम सोता है और ओवरवेट नहीं होता। ऐसे उपकरण प्रायः कस्टम-मेड होते हैं और ये दंत विषेशज्ञ या ओरल सर्जन की देखरेख में लगाए जाते हैं।

    सर्जरी की अनुषंसा कुछ मामलों में की जाती है जब टांसिल या एडनाॅएडस् गले में रूकावट का कारण बन रहे हों, टांसिलेक्टामी की सलाह दी जा सकती हैं। मरीजों के जबड़ों की समस्याओं में सर्जरी सहायक हो सकती है। ओएसए या टिष्यू को गले के पीछे से साफ करने या जीभ को आगे उसकी जगर पर करने के लिए दूसरी तरह की सर्जरी होंगी। ये सर्जरी सीपीएपी में ओएसए को कंट्रोल करने या प्रायः उन मरीजों के लिए रिर्ज रखी जाती है जिन्हें वीपीएपी हो गई हों।


    Trending In Nagpur
    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145