Published On : Sat, Jul 12th, 2014

वर्धा : 25 लाख की लालच में एक लाख भी गंवा दिया


वर्धा पुलिस ने गुडगांव, गाजियाबाद से पकड़े दो युवक


सेलू के युवक को दिया लॉटरी लगने का झांसा

वर्धा

मोबाइल पर 25 लाख की लॉटरी लगने का संदेश पाकर वह खुश था. इतना कि फोन करने वाले ने जब इनकम टैक्स, सर्विस टैक्स आदि के लिए 1 लाख 7 हजार रुपए बैंक-खाते में जमा करने को कहा, तब भी उसने बिना कुछ सोचे-समझे अपनी गाढ़ी कमाई के 1 लाख 7 हजार रुपए फोन करने वाले के बैंक खातों में जमा करवा दिए. मगर उस वक्त युवक के पैरों तले जमीन खिसक गई जब न तो उसे लॉटरी की राशि मिली और न ही अपनी जेब से गए रुपए. वर्धा पुलिस ने इस मामले में अपराध दर्ज कर बिहार के दो लोगों को गिरफ्तार किया है.

सावधान रहें, सतर्क रहें
वैसे, यह युवक कोई भी हो सकता है. आजकल इस तरह के फोन और संदेश बहुत आम हो गए हैं. फोन करने वाले कुछ इस तरह से लोगों को अपने जाल में फंसाते हैं कि कुछ सूझ ही नहीं पाता. मगर हम यहां बात कर रहे हैं सेलू तालुका के ग्राम हिंगणी निवासी सुनील महादेव मोहर्ले नामक 35 वर्षीय युवक की.

तीन खातों में जमा कराए रुपए
दरअसल, सुनील को विगत दिनों मोबाइल नंबर 00923049520719 से फोन आया. कहा गया, आपको 25 लाख की के.बी.सी. लॉटरी लगी है. ये रुपए आपके हो सकते हैं अगर आप इनकम टैक्स और सर्विस टैक्स आदि के 1 लाख 7हजार रुपए बैंक में जमा कराते हैं तो. फोन करने वाले ने आईसीआईसीआई बैंक़ के तीन खातों के नंबर भी दिए. पैसा पाने की आस में सुनील ने दिए गए खातों में रुपया भी जमा करा दिया. मगर जब कई दिनों तक उसके खाते में कोई पैसा जमा नहीं हुआ तो वह वर्धा पुलिस की शरण में पहुंच गया.

अकाउंट के आधार पर आरोपियों को खोजा पुलिस ने
पुलिस ने आईसीआईसीआई बैंक के अकाउंट के बारे में जानकारी हासिल की तो वह गुडगांव, गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश) और फगवाड़ा पंजाब के निकले. वर्धा पुलिस ने एक दल को तुरंत तीनों स्थानों पर भेजा. पुलिस के दल ने अकाउंट नंबर के आधार पर बिहार के दरभंगा जिले के ग्राम पेटोरी के रामकृष्ण चंद्रशेखर चौधरी (22) बिहार को अपने कब्जे में लिया. उसकी सूचना के आधार पर बिहार के ही मधुबनी जिले के बिजालपुरा निवासी अमित कुमार शारदानंद झा (22) को भी कब्जे में ले लिया. दोनों को वर्धा लाकर कड़ाई से पूछताछ की गई और 11 जुलाई को गिरफ्तार कर लिया गया.

पूछताछ में बड़े खुलासे की संभावना
पूछताछ में दोनों युवकों ने बताया कि वे यही काम करते हैं. आरोपी अपने परिचित व्यक्ति के एटीएम कार्ड का उपयोग कर तय किए व्यक्ति से रुपया ट्रांसफर करने को कहते हैं. जिस व्यक्ति का एटीएम इस्तेमाल किया जाता था उसे भी राशि में से हिस्सा दिया जाता थाा. पुलिस आरोपियों से और पूछताछ कर रही है. इस पूछताछ में कई बड़े खुलासे हो सकते हैं. यह कार्रवाई पुलिस अधीक्षक अनिल पारसकर और अपर पुलिस अधीक्षक टी. एस. गेडाम के मार्गदर्शन में पुलिस निरीक्षक एम. डी. चाटे, एपीआई नाईक, हवालदार संजय गायकवाड़, मनोज नांदुरकर, किशोर आप्तूकर, अजय रिटे, कुलदीप टाकसाले, चंद्रकांत जिवतोड़े ने कार्रवाई को अंजाम दिया.

Representational Pic

Representational Pic