Published On : Wed, Mar 15th, 2017

लाखों की रिश्वत लेते वन विभाग के दो अधिकारी पकड़ाए

नागपुर –

वन विभाग के दो अधिकारियों को रिश्वत लेते एंटी करप्शन ब्यूरो द्वारा रंगे हाथों पकड़ जाने के बाद वन विभाग में बुधवार को दिनभर हड़कम्प मचा रहा। प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के काटोल वन परिक्षेत्र में रपटा पुल निर्माण के सब कॉन्ट्रैक्टर से 3 लाख रुपए शिश्वत मांगने के आरोप में विभागीय वन परिक्षेत्र अधिकारी अशोक माकडे द्वारा 3 लाख रुपए की रिश्वत मांगी गई। साथ ही मेजरमेंट पुस्तिका का बिल निकालने के िलए विभाग के ही शाखा अभियंता अनिल पडोले ने 20 हजार रुपए की मांग की थी। इन दोनों अधिकारियों की धरपकड़ के लिए एसीबी टीम ने जाल बिछाकर कार्रवाई की।

एसीबी से मिली जानकारी के अनुसार शिकायतकर्ता काटोल वन परिक्षेत्र में रपटा पुल बनानेवाले सब कॉन्ट्रैक्टर की ओर से 4 रपटा पुल बनाने के बाद किए गए कामों के बिल का भुगतान मांगने पर रिश्वत की मांग अधिकारियों की ओर से की गई थी। पैसे के ऐवज में ही बिल देने की रट लगाने के कारण ठेकेदान परेशान होकर अंतत: 7 मार्च को एसीबी कार्यालय में सहायता मांगने पहुंचा। उसने विभाग को बताया कि उसके द्वारा बनाए गए 4 रपटा पुल का बिल 11.46 लाख रुपए का था। इस बिल के भुगतान के िलए जब उसने विभागीय वन परिक्षेत्र अधिकारी (विभागीय) अशोक माकडे से संपर्क किया तो उन्होंने इस बिल को पास कराने के िलए 3 लाख रुपए के रिश्वत की सीधे सीधे मांग कर डाली। साथ ही ठेकेदार द्वारा किए गए कामों के नापजोख के िलए वन विभाग के ही शाखा अभियांता अनिल पडोले ने 20 हजार रुपए की मांग की। अपने बिल में से 30 प्रतिशत रकम घूस में जाता देख उसने परेशान होकर एसीबी कार्यालय से संपर्क किया। सूचना के आधार पर एसीबी टीम ने योजना बनाकर अधिकारियों को धर धबोचने का प्लान बनाया। और दोनों अधिकारियों को रंगे हाथ मांगी गई रिश्वत की निधि देने का स्विकार किया। दोनं ही आरोपियों के खिलाफ सीताबर्डी पुलिस थाने में घूसखोरी प्रतिबंधक कानून की धारा 1988 के तहत मामला दर्ज िकया गया। यह कार्रवाई विभाग के पुलिस अधीक्षक महेश चिमटे के मार्गदर्शन में पुलिस उपाधीक्षक अश्विनी भोसले के नेतृत्व में पुलिस निरीक्षक अनिरुध्द पुरी, पुलिस हवलदार भानुदास गीते, पुलिस सिपाही लक्ष्मण परतेकी, रेखा यादव, शिशुपाल वानखडे,मनोज केदार व अन्य कर्मचारियों के सहयोग से किया गया।