Published On : Fri, May 2nd, 2014

नेरी : हल्दी उत्पादकों पर भूखों मरने की नौबत


हल्दी का भाव बढ़ाए जाने की मांग

नेरी

Advertisement


Turmuric
नेरी परिसर के सिरपुर, मोटेगांव खुटाला, काजलसर, लावारी, केवला इन गांवों मे हल्दी का उत्पादन होता है. लेकिन हल्दी का उचित मूल्य नहीं मिलने के कारण हल्दी उत्पादक किसानों पर विकट परिस्थिति आ गई है.

Advertisement

हल्दी की फसल के लिए काफी मेहनत करनी पड़ती है. दिसम्बर से जनवरी महीने मे हल्दी की कालियां तैयार हो जाती है जिसके बाद उन्हें खोदकर निकाला जाता है. इसके बाद दस से पंद्रह दिन तक हांथों से उसकी घिसाई और सफाइ की जाती है इसके अलावा मशीन से भी ये काम किया जाता है. इन सबके बाद हल्दी को बेचने के लिए बाज़ार ले जाया जाता है.

Advertisement

आज बाज़ार में जो दाम हल्दी उत्पादक किसानों को मिल रहा है उससे किसानों के लिए अपना और अपने परिवार का उदरनिर्वाह काफि मुश्किल हो गया है. हल्दी उत्पादन में लगने वाला खर्च के मुकाबले किसानों को मिलने वाला मूल्य कम होने से अब किसान हल्दी उत्पादन नहीं करने का मन बना रहे है.

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement