Published On : Fri, Aug 1st, 2014

चंद्रपुर जिले में अब सात-बारह प्रमाणपत्र मिलेंगे आॅनलाइन


शुरुआत कोरपना तालुका से, तीन महीने लगेंगे पूरा होने में


चंद्रपुर

Dr. Mhaisekar
चंद्रपुर जिले में आज पहली अगस्त से आॅनलाइन सात-बारह प्रमाणपत्र का वितरण शुरू हो गया. जिले के कोरपना तालुका से यह शुरुआत हुई है. राष्ट्रीय भूमि अभिलेख आधुनिकीकरण कार्यक्रम के अंतर्गत जिले के सभी 15 तालुकों में 5 लाख 10 हजार 641 सात-बारह प्रमाणपत्र के कम्प्यूटरीकरण का काम तीन महीने के भीतर कर लिया जाएगा. उसके बाद सभी को आॅनलाइन सात-बारह प्रमाणपत्र मिलने लगेगा.

वैयक्तिक वन अधिकार प्रमाणपत्र
जिलाधिकारी डॉ़ दीपक म्हैसेकर ने एक पत्रकार परिषद में यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि चंद्रपुर जिले में कोरपना तालुका से आॅनलाइन सात-बारह प्रमाणपत्र योजना की शुरुआत आज 1 अगस्त से हो गई है. चंद्रपुर जिले से इससे पूर्व 3 हजार 81 वैयक्तिक वन अधिकार प्रमाणपत्र वितरित किए गए थे. इसमें से 1 हजार 715 व्यक्तियों को सात-बारह प्रमाणपत्र दिया गया था.

पटवारियों को लैपटॉप
जिलाधिकारी ने बताया कि आॅनलाइन कामकाज के लिए जिले के 128 पटवारियों को लैपटॉप आवंटित किया गया है. बाकी पटवारियों को शीघ्र ही लैपटॉप दे दिए जाएंगे. उन्होंने बताया कि भूमिधारी से भूमिस्वामी करने के लिए भी विशेष मुहिम चलाई गई, जिसमें 60 हजार भूमिधारी लोगों का भूमिस्वामी में रूपांतरण किया गया. डॉ़ म्हैसेकर ने बताया कि चंद्रपुर स्थित पटवारी प्रशिक्षण केंद्र को विभागीय प्रशिक्षण केंद्र बनाया जाएगा. साथ ही इस केंद्र का अमरावती के राजस्व प्रशिक्षण केंद्र के साथ परस्पर सामजंस्य रखा जाएगा. इस संस्था की मार्फत प्रशिक्षण कार्यक्रम का नियोजन किया जाएगा.

राजस्व अभिलेखों के डिजीटाइजेशन
जिलाधिकारी ने बताया कि राजस्व अभिलेखों के डिजीटाइजेशन के लिए 1 अगस्त से जिले में स्कैनिंग शुरू की जाएगी. पहले चरण में 5 तालुकों में योजना शुरू होगी. इन स्थलों में तीन महीने में अभिलेखों का डिजीटाइजेशन होगा़ बाकी 10 तालुकों का काम चरणबद्ध तरीके से किया जाएगा.