Published On : Tue, Apr 22nd, 2014

गोंदिया: बिजली की आंख-मिचौली से परेशान हैं नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के ग्रामीण


लोडशेडिंग की अवधि 
में विशेष छूट का लाभ भी नहीं मिल रहा 

pic-8गोंदिया. 

जिले के सालेकसा, देवरी, अर्जुनी मोरगांव तालुका के 10-15 नक्सलग्रस्त गांवों के नागरिकों को लोडशेडिंग के कारण बिजली की लप्पन-छुप्पन का सामना करना पड़ रहा है. नक्सलग्रस्त क्षेत्र होने के कारण जिले को लोडशेडिंग के समय में विशेष छूट मिली हुई है, लेकिन जिन गांवों में नक्सलियों का डर है वहीं के लोगों को इस छूट का लाभ नहीं मिल पा रहा है. लोडशेडिंग के अलावा बार – बार खंडित होनेवाली विद्युत आपूर्ति से भी यहां के लोग परेशान हैं. लेकिन संबंधित अधिकारियों के साथ ही लोकप्रतिनिधि भी इस तरफ से आंखें मूंदे बैठे हैं. इससे नागरिकों में रोष निर्माण हो रहा है.

कुछ गांव अतिसंवेदनशील

सालेकसा, देवरी व अर्जुनी मोरगांव तालुका में आदिवासियों की संख्या बड़े पैमाने पर है. इन तालुकों में कुछ गांव अतिसंवेदनशील की श्रेणी में भी आते हैं. इस बात को ध्यान में रखकर ही जिले को लोडशेडिंग की कालावधि में विशेष छूट मिली है, लेकिन इसका लाभ केवल शहरी भाग के नागरिकों को ही मिलता नजर आ रहा  है.

सरकारी आदेश भी  ठेंगे पर 

विशेष बात यह कि नक्सलग्रस्त भागों की बिजली आपूर्ति खंडित नहीं रखने का सरकार का आदेश होने के बावजूद बिजली वितरण कंपनी के अधिकारी व कर्मचारी शासन के नियमों को नजरअंदाज कर रहे हैं. इससे इस क्षेत्र की बिजली की समस्या दिन ब दिन बढ़ रही है और नागरिक परेशान हो रहे हैं.