Published On : Tue, Jun 3rd, 2014

गडचिरोली : राज्य ने खो दिया आम आदमी का नेता


गडचिरोली जिले में मुंडे को श्रद्धांजली अर्पित

गडचिरोली

Gopinath Munde deth
जिले के राजनीतिक और सामाजिक क्षेत्र के नेताओं ने भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री गोपीनाथ मुंडे के निधन पर गहरा दुःख जताते हुए कहा है कि मुंडे के निधन से राज्य का भारी नुकसान हुआ है और आम आदमी का नेता उससे दूर चला गया है.

मुंडे थे जननेता
गडचिरोली के सांसद अशोक नेते ने कहा कि गोपीनाथ मुंडे ने भाजपा को राज्य के अंतिम छोर तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. उनके निधन से मेरी व्यक्तिगत क्षति के साथ ही पार्टी और देश की अपूरणीय क्षति हुई है.

राज्य के पूर्व राज्यमंत्री और राकांपा के जिलाध्यक्ष धर्मरावबाबा आत्राम ने मुंडे को जननेता बताते हुए कहा कि उन्होंने मुंडे के साथ 15 साल तक विधानसभा में काम किया. एक प्रभावी विरोधी पक्ष नेता के रूप में किया गया उनका कार्य अविस्मरणीय है. गडचिरोली के विधायक डॉ. नामदेव उसेंडी ने कहा कि मुंडे के निधन से सामान्य नागरिकों का भारी नुकसान हुआ है. भाजपा में रहकर बहुजन समाज और खासकर वीजेएनटी के लिए किए गए कार्य सदा याद रहेंगे.

ग्रामीण जनता से जुड़े नेता
राकांपा के प्रदेश सचिव सुरेश सावकार पोरेड्डीवार ने कहा कि मुंडे के निधन से राज्य की भारी क्षति हुई है. युवा शक्ति संघटना के जिला प्रमुख सुरेंद्रसिंह चंदेल ने मुंडे को जमीन पर रहकर काम करने वाला नेता बताते हुए कहा कि उन्हें किसानों की समस्याओं की बेहतर जानकारी थी. गडचिरोली नागरी सहकारी बैंक के अध्यक्ष प्रकाश सावकार पोरेड्डीवार ने कहा कि वे ग्रामीण जनता से जुड़े नेता थे. उनके निधन से एक लोकनेता हमारे बीच से चला गया है.

राज्य में महायुति के शिल्पकार
गडचिरोली नगर परिषद के उपाध्यक्ष प्रा. रमेश चौधरी ने कहा कि वे संघर्ष से बड़े नेता बने थे. उनके कार्य चिरकाल तक याद रहेंगे. भाजपा के जिलाध्यक्ष किसन नागदेवे ने कहा कि मुंडे के निधन से पार्टी और राज्य की जनता को गहरा सदमा लगा है. शिवसेना के जिलाध्यक्ष हरीश मने ने कहा कि गोपीनाथ मुंडे राज्य में महायुति के शिल्पकार थे. उन्हीं के कारण महायुति दीर्घकाल तक टिकी रही.

सच्चे अर्थों में बहुजनों के नेता
भाजपा के प्रदेश सदस्य बाबूराव कोहले ने कहा कि वे सच्चे अर्थों में बहुजनों के नेता थे. भाजपा के जिला उपाध्यक्ष प्रशांत वाघरे ने मुंडे को आम आदमी का प्रतिनिधित्व करने वाला नेता बताया. जिला परिषद सदस्य अमोल मारकवार ने कहा कि उनके मंत्री बनने के बाद किसानों की स्वप्नपूर्ति के संकेत दिखने लगे थे, मगर उनके निधन से अब यह संभव नहीं रहा है.