Published On : Thu, Jun 5th, 2014

गडचिरोली : ग्रामीण रुग्णालय का सहायक अधीक्षक 5 हजार की रिश्वत लेते पकड़ाया


गडचिरोली

Prashant Hemke
अस्पताल के लिए स्वास्थ्य विषयक सामग्री की आपूर्ति करनेवाले व्यक्ति से 5 हजार की रिश्वत लेते हुए धानोरा ग्रामीण रुग्णालय के सहायक अधीक्षक प्रशांत बलवंत हेमके (45) को भ्रष्टाचार निरोधक विभाग के अधिकारियों ने आज गुरुवार को रंगे हाथों पकड़ लिया.

चंद्रपुर के डेंटल एंड सर्जिकल मटेरियल सप्लायर विक्रांत कमलकिशोर जाजू ने धानोरा के ग्रामीण रुग्णालय को सर्जिकल सामग्री की आपूर्ति की थी. इस सामग्री के अलावा डेंटल चेयर, स्केलर मशीन और कम्प्रेसर मशीन की मरम्मत का 39 हजार 22 रुपए का बिल उन्हें ग्रामीण रुग्णालय से लेना था. सहायक अधीक्षक प्रशांत हेमके ने श्री जाजू से बिल की पूरी राशि का 15 फीसदी यानी 5850 रुपयों की मांग की थी. श्री जाजू ने इसकी शिकायत भ्रष्टाचार निरोधक विभाग से की. शिकायत के बाद भ्रष्टाचार निरोधक विभाग के अधिकारियों ने आज सुबह 11 बजे गडचिरोली के आईआईटी चौक पर जाल बिछाया. चौक पर एक मोटरसाइकिल दुरुस्ती की दुकान में श्री जाजू से 5000 रुपए की रिश्वत लेते हुए भ्रष्टाचार निरोधक विभाग के अधिकारियों ने प्रशांत हेमके को रंगे हाथों पकड़ लिया.

भ्रष्टाचार निरोधक विभाग के पुलिस उपायुक्त वसंत शिरभाते, अपर पुलिस अधीक्षक संजय पुरंदरे और पुलिस उपाधीक्षक रोशन यादव के मार्गदर्शन में पुलिस निरीक्षक वी. पी. आचेवार, पुलिस निरीक्षक डी. डब्ल्यू. मंडलवार के नेतृत्व में हवलदार चन्द्रहाशक जीवतोड़े, गजानन येरोकर, सिपाही शंकर मांदाडे, संदीप वासेकर, मनोज पिदूरकर, सुभाष गोहोकार, विठोबा साखरे आदि ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया.