Published On : Thu, Jul 17th, 2014

उमरखेड़ : एसटी कर्मियों ने किया डिपो के गेट पर धरना-आंदोलन


उमरखेड़

ST strike
महाराष्ट्र एस. टी. कामगार संघटना के तत्वावधान में 17 जुलाई को बस स्टैंड के गेट पर कर्मचारियों ने अपनी प्रलंबित मांगों के लिए धरना-आंदोलन किया. 5 अगस्त को विभागीय कार्यालय के गेट के सामने और 12 अगस्त को आजाद मैदान मुंबई में धरना दिया जाएगा.

संगठन के अध्यक्ष शेषराव इंगले ने बताया कि एस. टी. कामगार संगठन की प्रलंबित मांगों में सेवानिवृत्त कर्मचारियों की पत्नियों को 500 रुपयों में साल भर का पास देने, न्यायालयीन निर्णय के मुताबिक अवैध निजी यात्री वाहनों को बंद करने, नो पार्किंग जोन 200 मीटर तक लागू करने की मांग शामिल है. अलावा इसके, निजी पूरक यात्री यातायात (मैक्सीकैब) रद्द करने, सरकार पर बकाया एसटी महामंडल के 1364 करोड़ रुपया तत्काल देने, सभी मार्गों पर टोल टैक्स से छूट देने, यात्री कर में छूट देने, गांव जहां-एसटी वहां पर अमल करने और संगठन द्वारा एसटी की आय बढ़ाने के लिए दिए गए सुझावों पर अमल करने की मांग की गई. एक दिन का आंदोलन करने वाले कर्मचारियों का नुकसान भरपाई के रूप में 5 दिनों का वेतन काटने का महामंडल का निर्णय रद्द करने और एसटी महामंडल के विकास से लिए सरकार से अनुदान देने की मांगें भी की गई.
डिपो गेट के सामने किए गए इस आंदोलन में अध्यक्ष शेषराव इंगले, सचिव दत्तराव उगले, कोषाष्यक्ष अशोक कटुके, विभागीय उपाध्यक्ष माधव साधनवाड, शरद टोमके, एच. टी. सुरोशे, राजू बोंडगे, राजू कदम, शिवाजी बरगे, गणेश भस्मे, मधु कुंभारे, विजय वानखेड़े, सुरेश गिरी, दशरथ नंदनवार, अशोक नंदनवार, रामदास तोरकड, परवेज शेजलवार, मो. जॉनी, डी. एच. चव्हाण, सुभाष देवसरकर, मंगल राठोड़, एच. आर. पवार सहित अनेक कर्मचारियों ने हिस्सा लिया.