Published On : Thu, Apr 24th, 2014

साकोली : अंधश्रद्धा की बलि चढ़ी महिला

सर्पदंश के इलाज की बजाय खोजते रहे मांत्रिक 
साकोली : साकोली के समीप ग्राम उमरी में एक महिला अंधश्रद्धा की बलि चढ़ गई. महिला को सांप के काटने के बाद उसे तुरंत अस्पताल ले जाने की बजाय मांत्रिक को खोजने में समय बरबाद किया गया. करीब 5 घंटे बाद उसे अस्पताल ले जाया गया, मगर तब तक वह दम तोड़ चुकी थी.
ग्राम उमरी की श्रीमती सुरेखा नरेंद्र लांजेवार को 17 अप्रैल की आधी रात को एक जहरीले सांप ने डंस लिया था. सुरेखा के परिजन उसे अस्पताल ले जाने की बजाय एक मंदिर में ले गए. उसके बाद खोज शुरू हुई मांत्रिक की, मगर कोई नहीं मिला. सुबह के करीब 5 बजे उसे भंडारा के जिला अस्पताल ले जाया गया, मगर तब तक सुरेखा दम तोड़ चुकी थी. इन करीब 5 घंटों में सांप का जहर उसके पूरे शरीर में फ़ैल चुका था. सुरेखा के परिवार में उसके पति के अलावा 2 बेटे सहित भरापूरा परिवार है.
सर्पमित्रों ने सांप को पकड़ा
सुरेखा को सांप के काटने की खबर मिलने के बाद गांव के सर्पमित्र गुणवंत जिभकाटे, दीपक रहांगडाले, कैलाश वलथरे, शुभम बघेल और मयूर बेदरकर सुबह करीब 9 बजे उसके घर पहुंचे. सुरेखा जहां सोई थी, उसी के बाजू में एक बिल था, जहां सांप छुपा हुआ था. सर्पमित्रों ने सांप को बाहर निकाला. सांप कॉमन क्राफ्ट जाति का था, जो अत्यंत जहरीला होता है.