Published On : Tue, May 17th, 2022

जिलापरिषद का ‘मार्च एन्ड’ ख़त्म होने का नाम नहीं ले रहा

Advertisement

– ठेकेदारों को बिल के लिए बड़ा इंतज़ार करना पड़ रहा

नागपुर : पूरा वित्तीय वर्ष समाप्त हुए डेढ़ महीने बीत चुके है. लेकिन नागपुर जिला परिषद के वित्त विभाग का ‘मार्च एन्ड’ अभी खत्म नहीं हुआ है. अधिकारी के टेबल पर ठेकेदार के बिल की फाइल पड़ी धूल खा रही और अधिकारी वर्ग ‘मार्च एन्ड’ का बहाना कर ठेकेदारों को इंतज़ार करवा रहे हैं.

Advertisement

वित्त विभाग की ओर से कई फाइलें वापस भेजी जा चुकी हैं। इसलिए अब उन्हें कुछबदलाव कर नए सिरे से भुगतान की फाइल तैयार करवाना होगा। कुछ धनराशि कुछ जिला योजना विभागों को वापस चली गई। जिला परिषद को नुकसान हुआ जिला परिषद वित्त विभाग की गलती के कारण राशि वापस कर दी गई।

सूत्रों के मुताबिक जिलापरिषद में अभी मार्च में है।मार्च माह की फाइलें निपटाने का काम अभी तक शुरू है,जबकि मई माह का दूसरा सप्ताह अंतिम मुहाने पर है.उक्त ज्वलंत समस्या की चर्चा कल हुई स्थाई समिति की बैठक में की गई.

जिला परिषद् की लोककर्म विभाग द्वारा मंजूर विकास कार्यो को रोका गया ,जिससे जिलापरिषद सदस्यों में नाराजगी का वातावरण तैयार हो गया.
उल्लेखनीय यह है कि गर्मी खत्म होने में कुछ ही दिन बाकी हैं, जिससे किल्लत का काम ठप है। ग्रामीण क्षेत्रों के लोग पानी की किल्लत से जूझ रहे हैं। सत्तारूढ़ दल के सदस्यों सहित विपक्षी दल भी गुस्से में हैं।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement