Published On : Wed, Dec 20th, 2017

हाई प्रोफ़ाइल सेक्स रैकेट की टिप देनेवाली शातिर महिला को ही पुलिस ने किया गिरफ्तार

नागपुर: हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेटों की टिप देनेवाली महिला खुद ही रेक्स रैकेट चलाने के मामले में फंस गई। ज्ञात हो कि 8 नव्हंबर 2017 को नागपुर पुलिस के सामजिक सुरक्षा दस्ते हुडकेशवर थाने के तहत बेसा परिसर में एक छापामार कार्रवाई के दौरान एक हाई प्रोफ़ाइल सेक्स रैकेट का पर्दाफाश किया था। विभाग की प्रमुख पुलिस निरीक्षक शुभदा संखे को मिली गोपनीय सूचना के आधार पर की गई इस कार्रवाई में रैकेट चलाने वाली 2 महिलाओं समेत दिल्ली की 2 अन्य लड़कियों को छुड़ाया गया था। इस मामले की आगे की जांच हुडकेश्वर पुलिस को सौंप दी गई थी। हुडकेश्वर पुलिस को जांच के दौरान सूचना मिली कि जिस महिला के टिप के आधार पर सामाजिक सुरक्षा दस्ते ने छापा मार कारवाई की है वह खुद सेक्स रैकेट चलाती है। यही नहीं जिस घटना स्थल से सामाजिक सुरक्षा दस्ते ने 2 महिला आरोपियों को गिरफ्तार किया था वह फ़्लैट भी टिप देने वाली महिला का ही था। उस महिला का नाम शीला उर्फ़ प्रमिला शंकरराव कोहाड़ बताया जा रहा है। पिछले कुछ महीनों से शीला कोहाड़ बेसा स्थित गायत्री नगर के पास राजस विघ्नहर्ता अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 302 में फ़्लैट किराये से ले रखा था। प्रति ग्राहक 5 से 10 हजार रुपए लेकर एक घंटे का सौदा किया जाता था।

आपसी मनमुटाव के कारण अपनी पार्टनर साथी महिला ब्युटी और साची को पिटा एक्ट के केस में फ़साने की योजना बनाई। अपने ही फ़्लैट की जानकारी सामजिक सुरक्षा दस्ते को दी। दस्ते को जानकारी मिलते ही उन्होंने कानूनी कारवाई करते हुए आगे की जांच हुडकेश्वर पुलिस को दी। हुडकेश्वर पुलिस को जांच के दौरान इस मामले की सच्चाई पता चलते ही शातिर शीला को गिरफ्तार कर एक दिन का पीसीआर लिया है। सुत्रों के नुसार पीसीआर के दौरान शीला ने काफी राज पुलिस के सामने उगले हैं। महत्वपूर्ण बात यह है उससे जब्त चार मोबाईलों में भी रसूखदारों के मोबाईल नंबर मिलने की सूचना है। साथ ही वाट्सप चैटिंग का गहरा राज भी छुपा हुआ है। हुडकेश्वर पुलिस जब्त मोबाईल नंबर का सीडीआर निकालने में जुटी है। जांच के दौरान बड़े नामों का भी खुलासा भी होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं।

फ्लाइट से आती हैं लड़कियां
सूत्र बताते हैं कि जिस्मफरोशी का यह गोरखधंधा पिछले कुछ दिनों से शुरू है। शीला उर्फ़ प्रमिला कोहाड़ इस हाईप्रोफाईल रैकेट की सरगना बताई जा रही है। इसके पहले भी शीला कोहाड़ को 2014 और 2016 में सामजिक सुरक्षा ब्रांच ने गिरफ्तार कर जेल भेजा था। जेल से छूटने के बाद शीला और उसका गैंग काफी सक्रिय हो गया था। नागपुर के कई रसूकदारों से शीला के संपर्क हैं। साथ ही दिल्ली , बैंग्लुरु, कश्मीर, मुंबई, कोलकता के वेश्या व्यवसाय में लिप्त मॉडल और जरूरतमंद लड़कियों के साथ दलालों से संबंध हैं। इन लड़कियों से 15 दिनों से लेकर 1 महीने तक का कॉन्ट्रैक्ट किया जाता है। दलालों के माध्यम से लड़कियों को फ्लाईट से लाया जाता है।

जांच के दौरान शीला ने नागपुर सहित विदर्भ के देह व्यापार में लिप्त दलालों के नाम हुडकेश्वर पुलिस को बताए। सूत्रों के नुसार गोंदिया के अमित चव्हाण, नागपुर की शीतल, रामनगर के सचिन सोनारकर, कविता, राजा खान जैसे कई देहव्यापार में लिप्त दलालों के नामों का भी खुलासा किया है। फिलहाल पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ पीटा एक्ट के तहत मामला दर्ज करते हुए सेक्शन 370, 34 सहकलम 3, 4, 5, 7 अनैतिक व्यापार (प्रतिबंधक )अधिनियम 1956 के तहत हुडकेश्वर पुलिस थाने में दर्ज किया है। हुडकेश्वर पुलिस आगे मामले की जांच कर रही है।