Published On : Fri, Apr 21st, 2017

पांच दिनों से अनशनरत दिनेयंगों की नहीं ली किसी ने खैर खबर


नागपुर: शहर के सविधान चौक में पिछले पांच दिनों से विदर्भ विकलांग संघर्ष समिति के बैनर तले दिव्यांगों का अनशन चल रहा है। न्याय की गुहार लेकर अपनी मांगों के लिए पिछले पांच दिनों से लड़ रहे इन लोगों के पास अब तक ना तो कोई नेता ही पहुँचा है और ना ही कोई पदाधिकारी और अधिकारी ही। अपनी मांगों के लिए विदर्भ विकलांग संघर्ष समिति हर साल शीत सत्र अधिवेशन के दौरान प्रदर्शन करती आई है। लेकिन इन्हें अब तक न्याय नहीं मिल पाया है।

दरअसल समिति विकलांगों के लिए सरकार से सरकार की ही ज़मीन पर २०० वर्ग फ़ीट ज़मीन उपलब्ध करा के देने की मांग के साथ कई अन्य माँगो को भी रख रहे है।

साथ ही संजय गाँधी निराधार योजना के तहत मिलनेवाली पेंशन को 1000 रुपए प्रति माह दिव्यांगों के खातों में जमा करने के साथ दिव्यांग सहायक शिक्षिका रचना भाऊराव मेश्राम को जिला परिषद की स्कूल, महानगर पालिका की स्कूल या फिर किसी भी सरकारी कार्यालय में नौकरी देने की मांग की है। लेकिन सब के बाद भी ना तो प्रशासन और नी ही सरकार की ओर से ही कोई खबर या निवेदन लेने की मांग की है।


समिति अध्यक्ष गिरीधर भजभुजे ने कहा कि यह निवेदन समिति ने अब तक विभागीय आयुक्त, मनपा आयुक्त और जिलाधिकारी को दे चुके हैं। लेकिन फिर भी अब तक न्याय नहीं मिल पाया है. चिलचिलाती जलानेवाली गर्मी में यह लोग अनशन स्थल पर हैं। लेकिन प्रशासन इनकी सुध नहीं ले रहा है। इस अनशन में उषा लांबट, आरिफ शेख, आसिफ खान, रवि सुरस्कर, रचना मेश्राम, गजानन काले, ज्योति बोरकर, दिनेश यादव, उमेश गणवीर, राजू डोंगरे व अन्य का समावेश है।