Published On : Mon, Mar 23rd, 2020

गोंदिया: दो लाख की शराब भरा ट्रैक्टर जप्त

7 लाख 82 हजार का माल बरामद , एक गिरफ्तार

चुनाव- दर -चुनाव अपराधिक छवि के उम्मीदवारों की बढ़ती तादाद और चुनाव में बाहुबल- धनबल के साथ फैलता नशे का जाल हमारे लोकतांत्रिक प्रणाली को खोखला कर रहा है ।
गोंदिया जिला परिषद और पंचायत समिति का कार्यकाल जून 2020 में पूर्ण हो रहा है , लिहाजा गत दिनों इन सीटों के लिए आरक्षण भी घोषित किया गया , जिसके साथ ही अब ग्रामीण क्षेत्रों में चुनावी सरगर्मी तेज हो गई है ।

अपनी जीत को सुनिश्चित करने तथा कार्यकर्ताओं को काम पर लगाने के लिए और मतदाताओं को प्रलोभित करने के उद्देश्य से कुछ उम्मीदवार अभी से शराब संग्रह में जुट गए हैं।


पुलिस की आंखों में धूल झोंक कर शहरी इलाकों से गांव में शराब पहुंचाने हेतु चोरी-छिपे कृषि वाहनों का इस्तेमाल किया जा रहा है इस बात की पुख्ता जानकारी मिलने के बाद पुलिस प्रशासन ने जाल बिछाया और एक नशे की बड़ी खेप बरामद कर ली।

तनस के नीचे तालपत्री और उसके नीचे शराब के बक्से

जिला पुलिस अधीक्षक मंगेश शिंदे के मार्गदर्शन में 22 मार्च को अप्पर पुलिस अधीक्षक अतुल कुलकर्णी (देवरी कैम्प ) के नेतृत्व में गुप्तचर से मिली जानकारी के आधार पर अर्जुनी मोरगांव से लाखंनदूर जाने वाले मार्ग पर पुलिस टीम ने शाम 3:45 बजे मोर्चा संभाला तथा सहायक पुलिस निरीक्षक विजयकुमार धुमाल , पुलिस हवलदार कंगाली व पुलिस नायक राउत ने ग्राम धाबेटेकड़ी परिसर के रास्ते पर से जा रहे ट्रैक्टर के चालक को रुकने का इशारा किया जब ट्रैक्टर के पीछे लगी ट्रॉली क्रमांक MH35/B-8811के ऊपर रखी तनस (सूखी घास ) हटाई गई तो नीचे पीले रंग की तालपत्री दिखी , उसे हटाने पर पुलिस की नजर नीचे शराब भरी पेटियों पर गई ।

वीके प्रीमियम क्वालिटी लिखे 70 शराब भरे बक्से जब खोले गए तो प्रत्येक बॉक्स में 100 बोतल थी, इस तरह 7000 पव्वे देशी शराब जिसका मूल्य 1लाख 82000 हजार तथा ट्रैक्टर और ट्रॉली का मूल्य मूल्य 7 लाख इस तरह 8,82000 का माल बरामद करते हुए पुलिस ने आरोपी पांडुरंग परशुरामकर ( निवासी पिपड़गांव /लाखंनदूर ) इसे हिरासत में लेते हुए उसके विरुद्ध अर्जुनी मोरगांव थाने में धारा 65 (ई) का जुर्म दर्ज किया है , प्रकरण की जांच सहायक पुलिस निरीक्षक भूते कर रहे हैं।

रवि आर्य