Published On : Wed, Jul 14th, 2021

ट्रवल्स माफिया गुप्ता के झांसे में वेकोलि प्रशासन

– विवाद उठने पर हमेशा सम्बंधित अधिकारियों की मनमाफिक स्वार्थपूर्ति की जाती रही हैं


नागपुर– वेकोलि में ट्रवल्स ठेकेदार संदीप गुप्ता अपने ही श्रमिकों का आर्थिक शोषण कर रहा है। उधर संबंधित विभाग के तत्संबंधित अधिकारियों ने मामले पर जांच-पड़ताल व कार्रवाई की तैयारियां शुरु कर दी है।कार्रवाई की भनक लगते ही गुप्ता ने सुनियोजित तरीके से गंभीर प्रकरणों पर पर्दा डालने का अथक प्रयास शुरु कर दिया है। बताते हैं कि जब-जब वाहन आपूर्ति का ठेकेदार संदीप गुप्ता के ऊपर कार्यवाही की गाज गिरने की नौबत आती है,तब तब वह अजीबोगरीब हथकंडे अपनाता है। गोपनीय सूत्रों की माने तो वह नौटंकीबाज गुप्ता दम्पति अपने बचाव पक्ष में अधिकारी से सभ्यतापूर्ण व्यवहार करना शुरू कर देता है।नतीजतन संबंधित जांच-पड़ताल अधिकारी खुद का स्वार्थपूर्ति होता देख मामला दबा देते है।

उधर ट्रवल्स माफिया गुप्ता ने वेकोलि अधिकारियों से साफ़ साफ़ कह दिया कि पूरा मुनाफा मजदूरों को दे देंगे तो हम क्या करेंगे। मजदूरों के भरोसे पर ही तो दुनिया राज करती हैं। विगत दिनों ड्रामेबाज ट्रवल्स सप्लायर संदीप गुप्ता नागपुर और चंद्रपुर वेकोलि के दौरे पर निकले थे। दौरे में किसी को दंडवत प्रणाम,कहीं साष्टांग नमस्कार करके सौदेबाजी के मुताबिक लेन-देन किया गया।उसी तरह वेकोलि के अधिकारियों को भी शांत करने का अथक प्रयास शुरु किया जा रहा है। परंतु वेकोलि प्रबंधन तथा केन्द्रीय श्रम अधिकारी और लेबर वेल्फेयर अधिकारी के मुताबिक वे इसमे कुछ नही कर सकते है ? उनका मानना था कि ट्रवल्स माफिया संदीप गुप्ता को बचाने के चक्कर में सबंधित अधिकारियों की नौकरियां तथा उनकी चल व अचल संपत्तियां भी जप्त हो सकती है ?

ESIC ने श्रमिकों के नामों की सूची मांगी
उधर राज्य कामगार बीमा निगम के अधिकारिक सूत्रों की माने तो ESIC निरीक्षक द्वारा वेकोलि के CMD कार्यालय को पत्र लिखकर समस्त वेकोलि महाप्रबंधक अधिनस्थ क्षेत्रीय प्रबंधकों के अधीन कार्यरत गुप्ता की सभी ट्रवल्स एजेन्सियों के मजदूरों के नामों की सूची उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है। उसी प्रकार आल इंडिया सोशल आर्गेनाइजेशन ने ने भी सूचना अधिकार अधिनियम के मुताबिक वेकोलि कार्यालयों से ठेकेदार गुप्ता की सभी ट्रवल्स एजेन्सियों के श्रमिकों की जानकारी मांगी गई है.

अधिकारियों की कमजोरियों का फायदा उठाया जाता हैं
गोपनीय सूत्रों के मुताबिक ट्रवल्स माफिया गुप्ता द्वारा अमूमन अधिकारियों की कमजोरी का फायदा उठाकर अपना उल्लेखनीय सीधा की जाती रही। इसके पूर्व जब जब ट्रवल्स माफिया संदीप गुप्ता पर कार्यवाही की गाज गिरती है तब ऐसी सफल हरकतें कर चूका हैं और वह कठोर कार्यवाई से बच निकलता रहा है।

प्राप्त सबूतों के आधार पर शासन के साथ अवैध,अनैतिक घोटाले और धोखाधडी के मामले मे फरवरी 2015 में इस ट्रवल्स माफिया संदीप गुप्ता को बल्लारपुर पुलिस ने गिरफ्तार करके उसे सप्ताह भर पुलिस कस्टडी रिमाण्ड में रखा गया था।जिसका प्रथम श्रेणी चंद्रपुर न्यायालय में मामला न्याय प्रविष्ट है।