Published On : Tue, Jul 27th, 2021

सरकार जगाओ कार बाइक रैली

सरकार को जगाने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए ‘सरकार जगाओ,वाणिज्य बचाओ संघर्ष समिति’ (एसजेवीबीएसएस) ने सरकार को जगाने के लिए एक विशाल कार और बाइक रैली का आज़ आयोजन कर सरकार का दरवाजा खटखटाया है।

आक्रोश की मुंह बोलती तस्वीर
दीपेन अग्रवाल ने कहा कि रैली में उपस्थित व्यापार जगत के हर सेक्टर के व्यापारियों बड़ी भारी संख्या में भागीदारी आक्रोश की एक मुंह बोलती तस्वीर को दर्शा रही थी। यह इस बात का जीता जागता सबूत है कि राज्य सरकार द्वारा लगाए गए अतार्किक प्रतिबंधों से व्यापारी समुदाय तंग आ चुका है। सामान्य आर्थिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने में सरकार की अनिच्छा विशेष रूप से उन जिलों में जहां सकारात्मकता दर 0.25% से कम है, सरकार की मंशा पर संदेह पैदा करती है। लोग सवाल करने लगे हैं कि क्या सत्ता में बैठे पुरुषों का कोई छिपा हुआ एजेंडा है? क्या प्रशासन ने छोटे व्यवसायी को धीरे-धीरे और लगातार मारने के लिए कोई ठेका लिया है? अब सही समय है; सरकार को चाहिए कि वह व्यापारिक समुदाय के लिए राहत पैकेज की घोषणा करे और 4 जून, 2021 के उनके अपने आदेश का पालन करे और नागपुर जिले में लेवल-1 की छूट/प्रतिबंध लागू करे।

कुंभकर्णी नींद से जागे सरकार
दिलीप कामदार ने कहा कि भारतीय पौराणिक कथाओं में राक्षस राजा कुंभकर्ण को अपनी छह महीने की नींद से बाहर आने के लिए मजबूर किया गया था। इसी तरह, अब व्यापारी समुदाय ने सरकार और प्रशासन को जगाने और आम आदमी के सामने आने वाली अंतिम कठिनाई के बारे में जागरूक करने का संकल्प लिया है। कोरोना वायरस की संभावित 3आरडी लहर के डर से सरकार कई लोगों के वर्तमान में बाधा डाल रही है। सरकार को इस तरह के अड़ियल रवैये से बचना चाहिए। भारत एक कल्याणकारी राज्य है, सरकारों को हर नागरिक के साथ समान व्यवहार करना चाहिए।

सबके लिए यह स्थिति खतरनाक
तेजिंदर सिंह रेणु ने कहा कि एक तरफ सरकार जिले में लॉकिंग और अनलॉकिंग के लिए ऑटो-पायलट मोड ऑर्डर को सकारात्मकता दर और ऑक्सीजन बेड के कब्जे के आधार पर तैयार करती है। मंत्रियों और अधिकारियों ने सारी प्रशंसा स्वीकार कर राज्य में कोरोना वायरस के परिणामों को संबोधित करने के लिए पहली बार वैज्ञानिक आदेश तैयार करने के लिए अपनी पीठ थपथपाई। दूसरी ओर प्रशासन सभी स्तरों पर वैज्ञानिक निर्देशों को लागू करने से इनकार करता है और सरकार मूक-बधिर की तरह बैठती है। वर्तमान स्थिति छोटे और सीमांत व्यापारियों, सेवा प्रदाताओं और स्वरोजगार करने वाले व्यक्तियों के लिए भी खतरनाक है।

रैली में उमड़ी भारी भीड़
सरकार जगाओ कार और बाइक रैली हिस्लाॅप कॉलेज के पीछे की गली से शुरू हुई और लॉ कॉलेज स्क्वायर, कॉफी हाउस स्क्वायर, शंकर नगर स्क्वायर, झांसी रानी स्क्वायर, पंचशील स्क्वायर, मेहाडिया स्क्वायर, ग्रेट नाग रोड, मोक्षधाम स्क्वायर, बैद्यनाथ स्क्वायर, जगनाडे स्क्वायर से होते हुए आगे बढ़ी , गंगाबाई घाट स्क्वायर, टेलीफोन एक्सचेंज स्क्वायर, अग्रसेन स्क्वायर, मेयो हॉस्पिटल स्क्वायर, राम झूला, रेलवे स्टेशन फ्लाईओवर, मानस स्क्वायर, मॉरिस कॉलेज टी पॉइंट होते हुए वेरायटी स्क्वायर पहुंची और संघर्ष समिति के संयोजक दीपेन अग्रवाल द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण के बाद समापन हुआ। समिति के सदस्यों ने गांधीजी का आशीर्वाद मांगा और प्रार्थना की कि वे सरकार को आक्रोशित व्यापारी समुदाय द्वारा किए गए अहिंसा के मार्ग को महत्व देने के लिए अच्छी समझ प्रदान करें. अधिकांश प्रभावित और वाणिज्य के सभी क्षेत्रों से भारी भागीदारी थी, रैली शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुई।

सबने निभाई अपनी जिम्मेदारी
रैली के समन्वयक दिनेश नायडू ने सावधानीपूर्वक योजना बना अपनी जिम्मेदारी को अच्छी तरह से निभाया और विनय धर्माधिकारी ने समिति के सदस्यों के साथ रैली की भव्य सफलता के लिए कड़ी मेहनत की। एसोसिएशन ऑफ कोचिंग इंस्टीट्यूट्स, चेंबर ऑफ एसोसिएशन ऑफ महाराष्ट्र इंडस्ट्री एंड ट्रेड, नाग विदर्भ चेंबर ऑफ विदर्भ, नागपुर चेंबर ऑफ कॉमर्स लिमिटेड, नागपुर कंज्यूमर प्रोडक्ट्स डिस्ट्रीब्यूटर्स एसोसिएशन, नागपुर कस्टम हाउस एजेंट्स एसोसिएशन, नागपुर ईटेरी ओनर्स एसोसिएशन, नागपुर होटल ओनर्स एसोसिएशन के सदस्य , नागपुर मंगल कार्यालय लॉन एसोसिएशन, नागपुर फोटोग्राफर्स एंड ड्रोन एसोसिएशन, नागपुर रेजिडेंशियल होटल्स एसोसिएशन, नागपुर शिपिंग लाइन्स एजेंट्स एसोसिएशन, नागपुर टेंट हाउस एसोसिएशन, नागपुर जिला रेस्तरां परमिट-रूम एसोसिएशन, ऑस्कर सांस्कृतिक संगीत कलावंत एकोडी, स्टील एंड हार्डवेयर चेंबर ऑफ विदर्भ, टीएएआई – नागपुर, नागपुर जनरल मर्चेंट एसोसिएशन, द नागपुर टिम्बर मर्चेंट एसोसिएशन, द होलसेल क्लॉथ एंड यार्न मर्चेंट्स एसोसिएशन, ट्रैवल्स एसोसिएशन ऑफ नागपुर, विदर्भ एम्यूजमेंट एंड वाटर पार्क एसोसिएशन, विदर्भ बैकस्टेज एसोसिएशन, विदर्भ कंप्यूटर एंड मीडिया डीलर्स वेलफेयर एसोसिएशन, विदर्भ बैकस्टेज संगठन विदर्भ आर्थिक विकास परिषद, विदर्भ जेनरेटर ओनर्स एसोसिएशन, विदर्भ एलईडी एसोसिएशन, विदर्भ लाइट ओनर्स एसोसिएशन, विदर्भ पेन एंड स्टेशनर्स एसोसिएशन और विदर्भ वाइन मर्चेंट एसोसिएशन के पदाधिकारी, सदस्यों ने बड़ी संख्या में भाग लिया।

प्रमुखता से रहे उपस्थित
इस अवसर पर अश्विन मेहाडिया, राम‌अवतार तोतला, समीर अग्रवाल, प्रकाश अग्रवाल, मनीष जेजानी, राजेश लखोटिया, अधिवक्ता संजय के अग्रवाल, गोल्डी तुली, भवानी शंकर दवे, सचिन पुनियानी, नटवर पटेल, दिनेश सारडा, अशोक संघवी, विजय तलमले, राजीव जायसवाल , संजय काले, आशीष देशमुख, उदय ढोमणे, सुनील भाटिया, अर्जुनदास आहूजा,नीरज अग्रवाल, अभिनव ठाकुर, दीपक खुराना, सचिन इंकाने, ऋषि तुली, शाइक हफीज, सुनील राउत, दर्शन पांडे, अंगद अरोरा, मनदीप सिंह पदम, अमित हरिंदर बेम्बी, प्रकाश त्रिवेदी, विनोद त्रिवेदी, तरुण मोटवानी, विजय जायसवाल, शरद अग्रवाल, ब्रजेश खेमका, राजेश अग्रवाल, प्रो. रजनीकांत बोंद्रे, प्रो. सूरज अय्यर, प्रो. पाणिनी तेलंग और अन्य की प्रमुख उपस्थिति उल्लेखनीय रही।

सबका माना आभार
सचिव तेजिंदर सिंह रेणु ने पुलिस विभाग के कुशल बंदोबस्त के लिए; इतनी बड़ी संख्या में रैली में भाग लेने के लिए संघर्ष समिति और सदस्यों के लिए तथा प्रदर्शन और आंदोलन के कवरेज के लिए प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया सभी का आभार माना।