Published On : Tue, May 16th, 2017

विकास ठाकरे को रोकने के लिए उनकी ही पार्टी के नगरसेवकों ने बनाया चक्रव्यूव


नागपुर:
शहर की राजनीति में हाशिये पर खड़ी कांग्रेस के भीतर की उथल पुथल ख़त्म होने का नाम नहीं ले। मंगलवार को पार्टी के भीतर फ़िर एक बार आतंरिक घमासान सामने आया। पार्टी के तन्हाजी वनवे ने पार्टी के 17 नगरसेवकों के समर्थन का पत्र विभागीय आयुक्त को देकर मनपा सदन में कांग्रेस से अलग़ नया गुट बनाने की जानकारी दी। खुद तन्हाजी नगरसेवकों के समर्थन का पत्र विभागीय आयुक्त को दीया । जो पत्र विभागीय आयुक्त को सौपा गया है उसमें नगरसेवकों ने कांग्रेस से अलग होकर नया गट बनाने की जानकारी देते हुए उसे मान्यता देने की अपील की है।

वही इस प्रकरण पर प्रतिक्रिया देते हुए मनपा में पार्टी के नेता संजय महाकालकर ने इस प्रक्रिया को असंवैधानिक बताया। उनके मुताबिक नगरसेवक उनके साथ है उनकी खुद चार नगरसेवकों से बात हुई है जिसमें उन्होंने बगावत की बात से साफ इनकार किया है। महाकालकर ने चार नगरसेवकों के नामों का जिक्र करते हुए इन सभी के फ़र्जी दस्तावेज़ बनाये जाने की सनसनीख़ेज़ बात कहीं। उनके अनुसार को ख़ुद इस मामले की जाँच की अपील विभागीय आयुक्त से करने वाले है। महाकालकर से अलग तन्हाजी का दावा है की चुनकर आये पार्टी के 17 नगरसेवक उनके साथ है मंगलवार को ही नगरसेवकों की प्रगति सभागृह में बैठक हुई जिसमे उन्होंने उन्हें अपना नेता स्वीकार किया है।

इस घटनक्रम की वज़ह से कांग्रेस पार्टी की अंतर्कलह फिर सामने आ गयी है। वही दूसरी तरफ़ राजीनतिक जानकारों का मानना है की पार्टी का यह घटनाक्रम मनपा चुनाव हार चुके और फ़िलहाल शहर कांग्रेस के अध्यक्ष विकास ठाकरे को मनोनीत सदस्य बनकर मनपा की राजनीति में नहीं आने देने के लिए हो रहा है। पार्टी का एक धड़ा ठाकरे को पसंद नहीं करता इनका मानना है की पार्टी का बुरा हाल इन्ही की वजह से हुआ। 29 नगरसेवकों वाली कांग्रेस पार्टी को मनपा में एक मनोनीत सदस्य के प्रतिनिधत्व का अधिकार मिला है पार्टी ने विकास ठाकरे का नाम तय भी कर लिया है। पर उनके विरोधी उन्हें मनपा में नहीं आने देना चाहते इसलिए ऐसे घटनक्रम का निर्माण किया जा रहा है जिससे की 18 तारीख को मनोनीत सदस्य के नामांकन प्रक्रिया में रुकावट आये। मनोनीत सदस्य का चयन पार्टी के चुनकर आये सदस्य बहुमत के साथ करते है ऐसे में इस घटनक्रम से साफ़ है की ठाकरे के विरोधी नगरसेवक उन्हें न आने देने के लिए सारा खेल खेल रहे है।