Published On : Wed, Feb 10th, 2021

इस देश को जगद्गुरु बनाना है- कोश्यारी

गोंदिया में स्वर्ण पदक वितरण समारोह में बोले- महामहिम राज्यपाल

गोंदिया स्व. मनोहर भाई पटेल में जरूर कुछ दिव्यम गुण , सात्विक गुण रहें होंगे जिससे उन्होंने शिक्षा और सिंचाई के क्षेत्र में इतने अच्छे काम किए , उनका समाज के प्रति प्रेम था इसलिए उन्होंने अपना दिल ,अपना दिमाग, अपनी दौलत समाज कार्यों की भलाई में लगाई वह अनलिट्रेड थे लेकिन उनको परिवार से जो संस्कार मिले थे वह किसी एजुकेटेड से ज्यादा महत्वपूर्ण है क्योंकि उन्होंने गरीबों के बारे में सोचा जनता के बारे में सोचा… अच्छा सोचोगे तो अच्छा होगा ? उक्त आशय के उद्गार महाराष्ट्र राज्य के महामहिम राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने स्वर्ण पदक वितरण समारोह में व्यक्त करते कहा- मैं तो संघ के कार्यकर्ता और प्रचारक के तौर पर अनेक सूबों और गांव में जाता रहा हूं ।

हमारे संघ प्रचारक लिमयेजी थे वह गोंदिया जिले से आते थे तो मैं सोचता था कभी गोंदिया जाऊंगा ? आज प्रफुल्ल भाई ने यह अवसर दिया इसलिए मैं उनका आभार व्यक्त करता हूं।

प्रफुल्ल नाम है, प्रफुल्लित रहते भी हैं- कोश्यारी


जिनके प्रेम और स्नेह के कारण गोंदिया आने का अवसर मिला ऐसे प्रफुल्ल भाई पटेल ने मुझसे काफी वक्त पहले भेंट करते कहा था आपको गोंदिया आना है , मैंने कहा जरूर आऊंगा ? नेकी और पूछ-पूछ… मैं तो उन संस्कारों में पला हूं तू मान ना मान , मैं तेरा मेहमान.. प्रेम के ढाई अक्षर में सब कुछ जीत लिया जाता है प्रफुल्ल पटेल की मधुर मुस्कान ने वही किया।

प्रफुल्ल नाम है लेकिन प्रफुल्लित रहते भी हैं और इन्होंने प्रसन्नता से आमंत्रित किया आज मैं आप सबके बीच हूं।

मातृशक्ति का हो रहा जागरण , हर क्षेत्र में महिलाएं आगे

दुनिया बड़ी तेजी से आगे बढ़ रही है हर पल तकनीक बदल रही है पॉजिटिव सोच के साथ आगे बढ़ें और अपना योगदान इस देश को दें आज हमारे प्रधानमंत्री का नाम पूरी दुनिया में है सबका साथ- सबका विकास- सबका विश्वास के नारे के साथ गौरव का भाव होता है इसलिए हम सब ने मिलकर देश को आगे बढ़ाना है और इसे जगतगुरु बनाना है और अवश्य बनाएंगे।

लड़कों से अपेक्षा करता हूं कि थोड़ा बहनों से सीखो जिन्होंने स्वर्ण पदक प्राप्त किए हैं ।

आज जिस स्कूल में जाओ छात्राएं पढ़ाई में अव्वल है युग परिवर्तन हो रहा है मातृशक्ति का जागरण हो रहा है महिलाएं हर क्षेत्र में आज आगे बढ़ रही यह गौरव की बात है।

एक ही दिन में २२ हाईस्कूल खोले – प्रफुल्ल पटेल

स्व. मनोहर भाई पटेल को सभी बाबूजी कहकर बुलाते थे वे बड़ी अलग शख्सियत , सोच विचार के व्यक्ति थे , मूल गांव गुजरात के नडियाद में गरीबी उन्होंने बहुत देखी , वहां न पढ़ाई का साधन था ना मां बाप के पास जमीन थी इसलिए नौकरी- मजदूरी करने के हिसाब से वह वहां से निकलकर जबलपुर होते हुए गोंदिया आकर यहां अपने जीवन की शुरुआत की और क्योंकि खुद पढ़े-लिखे नहीं थे इसलिए मामा की तम्बाकू की छोटी सी दुकान से अपना काम शुरू किया और बीड़ी का व्यवसाय शुरू करते हुए जीवन में प्रगति पथ की सीढ़ियां तय करते चले गए लेकिन साथ- साथ जो अपने जीवन की कमी थी वह कमी दूसरों को महसूस ना हो इसी मंशा के साथ उन्होंने अपना सामाजिक कर्तव्य निभाते हुए एक ही दिन २२ हाई स्कूल का निर्माण गोंदिया- भंडारा जिले के अलग-अलग क्षेत्रों में किया बाद में जब जिला परिषद की फॉर्मेशन हुई तो २२ हायस्कूल फ्री में दान में दे दी ताकि बच्चों का भविष्य उज्जवल हो।

स्कूल निर्माण की यह श्रंखला उन्होंने कायम रखी तथा गोंदिया शिक्षण संस्था के नाम से दोनों जिलों में स्कूल कॉलेजों का निर्माण होता रहा है ।
बाबूजी के जाने के बाद जो पौधा लगाकर वो गए थे उसे सिंचने और बढ़ाने का काम हम सब लोगों ने मिलकर किया ‌ उक्त आशय के उद्गार कार्यक्रम के अध्यक्ष सांसद प्रफुल्ल पटेल ने प्रस्तावना रखते हुए व्यक्त किए।

कोश्यारी जी और हमारा विशिष्ट प्रेम और स्नेह -प्रफुल्ल पटेल

कोश्यारीजी से मेरा संबंध संसद में पहले आया बाद में वे उत्तराखंड के मुख्यमंत्री बने, उसके बाद राज्यपाल होकर महाराष्ट्र में आए।
कोश्यारी जी का जीवन बड़ा सरल और सादे व्यक्तित्व का है गरीब और सामान्य लोगों के लिए काम करते हुए उन्होंने संघ के प्रचारक के तौर पर अपना जीवन कई गांव और सूबों में बिताया ।


कभी हंसी मजाक तो कभी प्यार भरी नोकझोंक होती है लेकिन उन्होंने हमेशा एक मार्गदर्शक के नाते हमेशा एक साया और हाथ मेरे सिर पर रखा है ।
कोश्यारी जी को बताना चाहूंगा इस जमाने में गोंदिया जिला काफी पिछड़ा जिला हुआ करता था आज काफी हद तक पिछड़ापन कम हुआ है और हमें निरंतर काम करना होगा और आगे मिलकर सभी ने प्रयास करना होगा , विकास की यह श्रंखला निरंतर यूं ही आगे बढ़ती रहेगी ।
मनोहरभाई पटेल की स्मृति में 9 फरवरी को आयोजित इस गरिमामय कार्यक्रम का उद्देश्य उस महान व्यक्ति को नमन करते हुए उस से प्रेरणा लेकर हम कैसे आगे बढ़ें।

शिक्षा केवल देने के साथ-साथ जिन्होंने अच्छे अंक प्राप्त किए उनकी पीठ पर हाथ थपथपाना कि उन्होंने अच्छी पढ़ाई की उनका मनोबल बढ़ाना ताकि दूसरे विद्यार्थियों को भी उनसे ऊर्जा मिल सके इसलिए हम गोंदिया- भंडारा जिले के प्रवीणता प्राप्त मेधावी विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक से सम्मानित करते हैं। उक्त आशय के उद्गार सांसद प्रफुल्ल पटेल ने मंच से व्यक्त किए।

कार्यक्रम में इनकी रही उपस्थिति स्व. मनोहर भाई पटेल की स्मृति में 9 फरवरी को आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने पूर्व सांसद डॉ खुशाल बोपचे , पूर्व सांसद मधुकरराव कुकड़े , पूर्व मंत्री विलास श्रृंगार पवार , विधायक राजू करेमोरे , विजय राहंगडाले , विनोद अग्रवाल , सहसराम कोरोटे , नरेंद्र भोंडेकर , अभिजीत बंजारी ,पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष के आर शेंडे , विजय शिवनकर ,रमेश डोंगरे पूर्व विधायक अनिल बावनकर , नगर अध्यक्ष अशोकराव इंगले आदि गणमान्य पहुंचे जिनका सांसद प्रफुल्ल पटेल ने पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया।
मंचासीन अतिथियों में पूर्व विधायक हरिहर भाई पटेल उपस्थित थे , कार्यक्रम के कुशल मंच संचालन तथा आभार का दायित्व पूर्व विधायक राजेंद्र जैन ने निभाया।

-रवि आर्य