Published On : Fri, Jan 16th, 2015

गड़चांदुर : शिविर से निष्क्रिय गुणों को गति मिलती है – डा. अनिलराव चिताडे

Gadchandur
गड़चांदुर (चंद्रपुर)। शिविर से विद्यार्थियों के संपूर्ण विकास के लिए गति मिलती है. जिससें होनहार विद्यार्थी बनते है. जिसके लिए रासेयो के विशेष शिविर की जरुरत है. ऐसा प्रतिपादन डॉ. अनिलराव चिताडे ने किया है. महात्मा गांधी कनिष्ठ महाविद्यालय गड़चांदुर में आयोजित रासेयो के विशेष शिविर उदघाटन कार्यक्रम के अध्यक्षता में वे बोल रहे थे. उदघाटक मणिकगड सिमेंट कंपनी के अध्यक्ष शंकर के. मंडेलिया थे. प्रमुख अतिथी जिप सदस्य नानाजी आदे, संस्था के संचालक विठ्ठलराव थीपे, सरपंचा गिरिजाबाई पेंडोर, केंद्र प्रमुख संजय त्रिपतीवार, प्राचार्य बी.बी. झंझाड, उप. प्रा. सुभाष पात्रीकर, रासेयो के जिला समन्वयक प्रा. विजय आकनुरवार, ग्राम शिक्षण सभापती लक्ष्मण पेंदोरे, आदि उपस्थित थे.

इस दौरान मान्यवरों के भाषण हुए. कार्यक्रम का उदघाटन दिप प्रज्वलन से हुआ. शिविर के दौरान विविध कार्यक्रमों का आयोजन किया गया. कार्यक्रम का प्रास्ताविक प्राचार्य बी.बी. झंझाड़ ने किया. कार्यक्रम की रुपरेखा रासेयो के कार्यक्रम अधिकारी प्रा. विजय आकनुरवार ने किया. संचालन प्रा. आशीष देरकर ने, आभार प्रदर्शन प्रा. प्रदीप परसुटकर ने किया.  शिविर की सफलता के लिए प्रा. रश्मी भालेराव, प्रा. प्रशांत पवार, प्रा. संगीता गिरी, गुलाब पेंडोर, प्रा. सुधीर थीपे, प्रा. बालू उमरे, प्रा. सचिन भैंसारे आदि ने सहकार्य किया.