Published On : Sun, Jan 20th, 2019

गैंगस्टर आंबेकर का भांजा निकला चोर

नागपुर: लकड़गंज पुलिस ने गंगा-जमुना में सेक्स वर्कर के घर पर हुई 15.70 लाख की चोरी के मामले में गैंगस्टर संतोष आंबेकर के भांजे और उसकी गर्लफ्रेंड सहित 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. पिछले 1 महीने से लगातार पुलिस जांच में जुटी हुई थी. आखिर पुलिस के गोपनीय सूत्र काम आए और वारदात का पर्दफाश हुआ. पुलिस ने गंगा-जमुना में रहने वाली प्रिया गणेश पाटिल (29) की शिकायत पर मामला दर्ज किया था. पकड़े गए आरोपियों में श्रीकृष्ण अपार्टमेंट, कोतवाली निवासी विकास उर्फ सनी राजकुमार वर्मा (28), शास्त्रीनगर, भांडेवाड़ी निवासी समीर संजय शेख (19), गंगा-जमुना निवासी फैजान अनवर शेख (19) और मोना पतिराम कालखोर (22) का समावेश है.

सनी गैंगस्टर आंबेकर का सगा भांजा है. प्रिया और उसका परिवार गंगा-जमुना परिसर में देह व्यवसाय चलाता है. प्रिया की दादी कलाबाई कालखोर का निधन होने के कारण पूरा परिवार अंत्येष्टि में हिस्सा लेने ग्वालियर गया था. 22 दिसंबर को घर लौटे तो चोरी का पता चला. घर से 29 तोला सोने के जेवरात और नकद 7 लाख रुपये चोरी हुए थे. घटना की जानकारी पुलिस को दी गई. लकड़गंज पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया. पहले तो पुलिस को भी विश्वास नहीं हुआ था कि घर से इतना माल चोरी हुआ है, लेकिन शिकायत के अनुसार मामला दर्ज कर लिया गया.

Advertisement

गर्लफ्रेंड ने दी टिप, सोने का ब्रैस्लेट मिला गिफ्ट
जानकारी के अनुसार सनी का रोजाना गंगा-जमुना परिसर में आना-जाना था. वहां उसकी अच्छी धाक भी बनी हुई थी. मोना के साथ उसके प्रेम संबंध जुड़ गए. मोना जानती थी कि प्रिया ने काफी माल कमाया है. दादी का देहांत होने के कारण वह अपने परिवार के साथ ग्वालियर गई है. उसने सनी को इस बारे में बताया. सनी ने अपने 2 साथियों के साथ मिलकर प्रिया के घर में सेंध लगाई. टिप मोना ने दी थी इसीलिए चोरी हुए जेवरात में से एक सोने का ब्रैस्लेट सनी ने अपनी गर्लफ्रेंड को गिफ्ट दे दिया. ब्रैस्लेट में हुक नहीं था. इसीलिए मोना एक सराफा के पास हुक लगवाने के लिए गई. उसके पास इतना महंगा ब्रैस्लेट देखकर सभी आश्चर्यचकित थे. परिसर में चर्चा होने पर पुलिस को जानकारी मिली. पुलिस ने मोना को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने सनी और अन्य आरोपियों के नाम बताए.

गोवा में मनाया थर्टी फर्स्ट
पुलिस ने अन्य 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया. उनसे चोरी गए जेवरात में से 8.85 लाख रुपये का माल बरामद हुआ. पूछताछ में पता चला कि प्रिया के घर पर सेंध लगाने के बाद आरोपी जमकर पैसा उड़ा रहे थे. थर्टी फर्स्ट मनाने के लिए मोना और सनी मुंबई और गोवा गए थे. दोनों ने हवाई यात्रा की और चोरी के पैसों से जमकर अय्याशी की. डीसीपी राहुल माकणीकर और एसीपी वालचंद्र मुंढे के मार्गदर्शन में इंस्पेक्टर संतोष खांडेकर, पीएसआई पी.जी. गाड़ेकर, एएसआई रवि राठोड़, हेडकांस्टेबल प्रकाश सिडाम, दीपक कारोकर, अजय बैस, लक्ष्मीकांत गावंडे, राम यादव, वासुदेव जयपुरकर, फिरोज खान, भूषण झाड़े और शिवराज पाटिल ने कार्रवाई को अंजाम दिया.

सनी था तड़ीपार, एमडी से भी जुड़े तार
मामले में पकड़े गए सनी पर कई आपराधिक मामले दर्ज है. उसकी आपराधिक गतिविधियों को देखते हुए डीसीपी जोन 3 ने करीब 1 वर्ष पहले उसे जिले से तड़ीपार किया था. तड़ीपार होने के बावजूद वह गंगा-जमुना परिसर में सक्रिय था. तड़ीपार रहते हुए उसने चोरी की वारदात को अंजाम दिया. जानकारी मिली है कि सनी एमडी ड्रग्स के व्यापार में भी सक्रिय था. तड़ीपारी के उल्लंघन पर कोई ठोस कानूनी कार्रवाई नहीं होने के कारण अपराधियों में कोई डर नहीं है. पकड़े जाने पर न्यायालय से आसानी से बेल मिल जाती है.

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement