Published On : Wed, May 9th, 2018

ड्राइवर को बाबू बनाने का जारी किया गया फ़तवा

NMC-Nagpur

नागपुर: पुरानी कहावत है कि ‘चाय से ज्यादा केतली गर्म’ होती है. इस कहावत को अमूमन हर मोड़ पर महसूस किया जा सकता है. नागपुर मनपा में खासकर ड्राइवर, चपरासी, सहायक आदि कर्मचारियों का कुछ आलम इसी तरह का हो गया है. एक पूर्व आयुक्त ने मनपा से जाते समय अपने ड्राइवर को क्लर्क बनाने के प्रस्ताव पर हस्ताक्षर कर दिए. आज इस निर्देश का पालन होना शेष है.

मनपा आयुक्त एवं सामान्य प्रशासन विभाग के सूत्रों के अनुसार पिछले ४ मनपा आयुक्त का ड्राइवर एक ही है. यह इस जगह पिछले १० वर्षों से तैनात है. इस दौरान जो भी आयुक्त पदासीन हुए उनका हमखास हो गया. वैसे नियमानुसार ४-५ साल में बदली हो जानी चाहिए थी.

आज भी वर्तमान मनपायुक्त का ड्राइवर है. बताया जाता है कि आयुक्त स्तर के काम आयुक्त के मार्फ़त करवाने में काफी सक्रिय रहा. यह ड्राइवर यह भी हमेशा अपने सर्कल में दावा करता रहता था कि आयुक्त से किसी भी तरह का काम करवा लेता है.

शायद इसलिए पूर्व आयुक्त ने जाते-जाते वक़्त अपने इस ड्राइवर को लक्ष्मीनगर जोन में क्लर्क पद पर तबादला करने के आदेश प्रस्ताव पर हस्ताक्षर कर सामान्य प्रशासन को भेज दिए थे.

समाचार लिखे जाने तक सामान्य प्रशासन विभाग ने उक्त आदेश का पालन नहीं किया इसलिए उक्त ड्राइवर आज भी आयुक्त का ड्राइवर की हैसियत से कार्यरत है. इस प्रकरण में मनपा के कुछ चुनिंदे अधिकारियों का सख्त विरोध होने के कारण मामला अधर पर लटक गया.

उल्लेखनीय यह हैं कि मनपा आयुक्त जैसे अधिकारी के लिए २४ घंटे उपलब्ध रहने वाला ड्राइवर की तैनातगी होनी चाहिए. मनपा आयुक्त के बंगले पर शैयद नामक अतिरिक्त ड्राइवर वैसे भी रहता है. इस ड्राइवर को ही मनपायुक्त का ड्राइवर नियुक्त करना चाइए. ऐसा सुझाव आयुक्तालय में चर्चा के दौरान प्राप्त हुआ एवं उक्त मामले की गंभीरता को देखते हुए वर्तमान मनपायुक्त ने वर्तमान अपने ड्राइवर को अन्यत्र तबादला कर इस पर लगे गंभीर आरोपों की जांच करने की मांग मनपा के कर्मियों ने आयुक्त से की है. अब देखना यह है कि यह मामला क्या गुल खिलाता है.