Published On : Sat, Jul 2nd, 2022

राज्य में सत्ता परिवर्तन का असर दिखेगा जिप में

– केदार गुट के खिलाफ लामबंद हो रहे पक्ष-विपक्ष

Advertisement
Advertisement

नागपुर– मुंबई में सरकार बदलने से जिला परिषद की राजनीति पर असर पड़ने की संभावना है, जिसे अब ‘मिनी असेंबली’ के नाम से जाना जाता है. राकांपा और कांग्रेस के सत्ता से बाहर होने से जिले के मंत्री सत्ता से महरूम होने के कारण विपक्ष अर्थात भाजपा को ताकत मिलेगी।

Advertisement

जिला परिषद में कांग्रेस सत्ता में है। इसमें एनसीपी के साथ शिवसेना भी शामिल थी. लेकिन शिवसेना सदस्य संजय झाड़े ने अक्सर कांग्रेस विरोधी रुख अपनाया है। अब उनकी पार्टी सत्ता से दूर हो गई हैं वे स्वतंत्र हो गए.पूर्व मंत्री सुनील केदार के गुट का जिला परिषद का दबदबा है। इस गुट के खिलाफ सत्ता परिवर्तन के बाद सभी पक्ष-विपक्ष एकजुट हो रहे.
तब वे एक मंत्री थे। नतीजतन, उनका गुट जिलापरिषद में प्रभावी था । अब राज्य में सत्ता परिवर्तन के कारण राज्य में भारतीय जनता पार्टी सत्ता में आ गई है।

Advertisement

जिला परिषद् में भाजपा विपक्षी दल है,अब सत्ता में आने के कारण भाजपा को मजबूती मिलेगी। मौजूदा पदाधिकारियों का ढाई साल का कार्यकाल 17 जुलाई को समाप्त हो रहा है। इसलिए, अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और चार अध्यक्षों के पदों के लिए चुनाव होंगे। जिला परिषद में सत्तारूढ़ कांग्रेस में आक्रोश है। कुछ सदस्यों ने खुलकर अपनी नाराजगी व्यक्त की है और जिला परिषद् अध्यक्ष पद के लिए दावा किया है।

कांग्रेस में सक्रिय समूह
कांग्रेस में एक और धड़ा भी इस पद के लिए सक्रिय हो गया है जिसके कारण पक्ष अंतर्गत उठापठक शुरू हो गया है । यह गुट अध्यक्ष पद के लिए किसी भी स्तर तक राजनीति समझौता कर सकता है. भाजपा भी इसका फायदा उठाने की कोशिश कर सकती है.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement