Published On : Thu, Feb 5th, 2015

मोहपा : कृषी व पशुधन पर ही ग्रामीण क्षेत्र की अर्थव्यवस्था – वि. सुनील केदार


मोहपा में संकरित जानवरों की प्रदर्शनी व किसान सम्मेलन संपन्न

विभिन्न शासकीय योजनाओं का किसानों ने लाभ लेने का आवाहन

संवाददाता / निशांत टाकरखेडे

MLA Sunil Kedar
मोहपा (नागपुर)।
भारत कृषिप्रधान देश है. ग्रामीण क्षेत्र में कई लोगों की अर्थव्यवस्था कृषी व पशुधनपर ही अवलंबित है, इस वजह से विभिन्न शासकीय योजनाओं का लाभ किसानो व गोपालकों ने लेना चाहिए ऐसा आवाहन वि. सुनील केदार ने किया. वे मोहपा में पशुसंवर्धन व कृषी विभाग पंचायत समिति, कलमेश्वर की ओर से जिला परिषद व पंचायत समिति बढ़ी हुई उपकर योजना सन 2014-15 आयोजित संकरीत जानवरों की प्रदर्शनी व किसान सम्मलेन में बोल रहे थे.

इस दौरान कार्यक्रम में प्रमुख मार्गदर्शक के तौर पर नागपुर जिला अधीक्षक कृषी अधिकारी डा. अर्चना कडू, पं. स. कलमेश्वर की सभापती विभाताई निंबुलकर, जि.प. सदस्य मनोहर कुंभारे, उपसभापती नरेंद्र पालटकर, पूर्व सभापती वैभव घोंगे, मोहपा नगराध्यक्ष शमशुद्दीन शेख, उपाध्यक्ष माधव चर्जन, पं. स. सदस्या सुमन पगारे, बेबी धुर्वे, मोहपा न.प. मुख्याधिकारी विद्याधर अंधारे तथा नगरसेवक दिलीप आनडे, रशीद शेख, पंजाब चापके, सौ. ललिता आनडे, तालुका कांग्रेस अध्यक्ष अशोक भागवत, विरेंद्रसिंग बैस, विजय ठाकरे आदी मान्यवर प्रमुख रूप से उपस्थित थे.

MLA Sunil Kedar (2)
उन्होंने आगे कहां कि, ग्रामीण क्षेत्र अर्थव्यवस्था कैसी सुधरेगी? म. गांधीजीं ने कहां है कि ‘गाव बनाव, देश बनाव’. कार्य करते हुए समस्यायों पर मात करके किसानो को मदद करना यह मेरा कर्तव्य है. ग्रामीण क्षेत्र आजीविका यह खेती पर ही अवलंबित होकर उसके लिए पानी महत्वपूर्ण भाग है. किसानों को सिंचाई की व्यवस्था कैसी करके दी जाएगी इसके लिए मै हमेशा प्रयासरत रहूँगा. वहीं जलविभाजन व कृषी विभाग को ऐसे आदेश भी दिए है. मै स्वतः उनके साथ दौरा करूँगा, ऐसा भी वि. सुनील केदार ने अपने भाषण द्वारा बताया. किसानों ने सहायक धंदे के रूप में संकरित गाय लेकर दुग्धव्यवसाय करे व अपनी  आर्थिक परिस्थिति मजबूत करें. ऐसा प्रतिपादन वि. केदार ने उपस्थित किसानों व गोपालकों को किया. इस अवसर पर अन्य मान्यवरों ने अपना मत भाषण से व्यक्त किया.

कार्यक्रम में गोपालक व किसानों की भीड़ उमड़ी थी. विभिन्न जाती के संकरीत जानवर सब का ध्यान आकर्षित कर रहे थे. इस अवसर पर उत्कृष्ठ जनावर गोपालकों के लिए  पुरस्कार भी रखे गए थे. उसमें 0 से 6 माह एक गुट, 6 माह से डेढ़ वर्ष ऐसा दुसरा गुट वहीं डेढ़ वर्ष व उसके ऊपर ऐसा तिसरा गुट तैयार किया गया था. हर गुट में प्रथम पुरस्कार मिक्सर-जुसर, व्दितीय प्रेशर कुकर तथा तीसरा स्टील टब ऐसे  पुरस्कार दिए गए. किसानों ने भी अपने खेत के खास सब्जीभाजी, फल, आदि प्रदर्शनी में रखा था.

MLA Sunil Kedar (3)
कार्यक्रम का प्रास्ताविक पं.स. कलमेश्वर के पशुधन अधिकारी डा. मधुसूदन धोटे ने किया. वहीं संचालन शिक्षण विस्तार अधिकारी वैद्य ने किया. पं. स. तालुका कृषी अधिकारी प्रदीप टिंगरे ने आभार प्रदर्शन किया. कार्यक्रम की सफलता के लिए डा. भीमराव कोहाड, कृषी अधिकारी लक्ष्मीकांत सरोदे, व्ही. ए. भांडारकर, पशुसंवर्धन व कृषी विभाग, पंचायत समिती कलमेश्वर तथा नगर परिषद मोहपा के कर्मचारियों ने प्रयास किया.