Published On : Wed, Mar 6th, 2019

जिले में लोकसभा चुनाव आयोजन के लिए १३७५ वाहनों की दरकार, प्रशासन करेगा वाहनों का अधिग्रहण

सभी वाहनों पर लगेंगे ‘जीपीएस’ उपकरण

नागपुर: अगले कुछ ही दिनों में लोकसभा चुनाव की आचार संहिता की घोषणा होने वाली है. जिले के मतदान केंद्रों पर अधिकारियों-कर्मचारियों और ईवीएम मशीनें को लाने-ले के लिए १३७५ वाहनों की आवश्यकता है. इसलिए चुनावी कार्यों के लिए वाहनों की अधिग्रहण करने की जिम्मेदारी प्रादेशिक परिवहन विभाग को सौंपी गई है. चुनावी कार्यों में उपयोग होने वाले वाहनों पर ‘जीपीएस’ लगाया जाएगा.

याद रहे कि नागपुर जिले में नागपुर और रामटेक लोकसभा क्षेत्र है. नागपुर लोकसभा मतदार संघ के चुनाव अधिकारी की भूमिका खुद जिलाधिकारी अश्विन मुद्गल संभल रहे हैं. तो दूसरी ओर रामटेक लोकसभा निर्वाचन संघ के चुनाव अधिकारी की जिम्मेदारी अतिरिक्त जिलाधिकारी को सौंपी गई है. आगामी लोकसभा चुनाव की आचार संहिता ११ मार्च के आसपास या ११ मार्च को लागू कर दी जाएगी. इसी संकेत के आधार पर जिला प्रशासन चुनावी तैयारियों में भीड़ गई है.

नागपुर जिले में कुल १२ विधानसभा क्षेत्र हैं. चुनाव के लिए अंतिम मतदाता सूची सार्वजानिक कर दी गई है. जिले में कुल मतदाता ४०,२६,५१४ से अधिक पंजीकृत हैं. जिसके कारण मतदान केंद्रों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है. हर मतदान केंद्र पर ६-७ अधिकारी-कर्मी तैनात किए जाएंगे. इसके लिए भी तैयारी अंतिम चरणों में है.

जिला प्रशासन का मतदान सह मतगणना हेतु तैयारियां और प्रशिक्षण का क्रम जारी है. चयनित अधिकारियों सह कर्मियों को प्रशिक्षित कर जिम्मेदारियां दे दी गई हैं.

चुनावी कार्यों के निपटारे के लिए १३७५ वाहन अधिग्रहित किअ जाएगे. जिसमें एसटी की ४१२ बसें, ५१८ जिप्सी, ४४५ ओमिनी सह अन्य वाहनों शामिल है. समय पर १०% अधिक वाहन अतिरिक्त रूप से लगने का अंदाज लगाया गया है, इसलिए अतिरिक्त व्यवस्था भी की जा रही.