Published On : Tue, Oct 22nd, 2019

हवा का रूख तय करेगा दिग्गजों का भाग्य

निर्दलीय के चुनावी मैदान में उतरने से गोंदिया सीट पर मुकाबला रोचक

गोंदिया: महाराष्ट्र में विधानसभा की २८८ सीटों के लिए हुए चुनाव में जनता ने अपना फैसला ईवीएम में कैद कर दिया है। गोंदिया-भंडारा जिले की जनता किसे सत्ता सौंपने जा रही है? यह तो २४ को चुनावी पिटारा खुलने के बाद ही पता चलेगा, लेकिन उसके पहले टीवी एग्जिट पोल के अनुमान सामने आ गए है, जिसके मुताबिक गोंदिया तथा भंडारा की सभी ७ सीटों पर कमल खिल रहा है।

जिले के गोंदिया विधानसभा क्षेत्र में ६४.५५ प्रतिशत, तिरोड़ा ६५.३४, आमगांव ६८.३०, अर्जुनी मोरगांव ६९.२६ प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। इस तरह जिले में कुल मतदान का प्रतिशत ६६.८६ रहा।

गोंदिया- भंडारा की ७ सीटों पर क्या होगा?
गोंदिया-भंडारा जिले की ७ विधानसभा सीटों के चुनाव परिणाम पर सबकी निगाहें टिकी है। साकोली विधानसभा क्षेत्र में मुकाबला कांग्रेस के नाना पटोले तथा भाजपा के डॉ. परिणय फुके के बीच बेहद रोचक तथा करीबी है।

सनद रहे प्रधानमंत्री मोदी इस सीट पर प्रचार करने पहुंचे थे, उन्होंने चुनावी रैली में कहा था, जितनी भीड़ इस जनसभा में उमड़ी है, जहां तक नजर डालो पब्लिक ही पब्लिक है, यह अपने आप में बताने के लिए काफी है कि, चुनाव परिणाम क्या होंगे?

भाजपा के नेता जहां एक तरफा जीत को लेकर आश्‍वस्त है वहीं गोंदिया-भंडारा जिले की एक भी सीट शिवसेना के कोटे में न दिए जाने की वजह से भंडारा में पूर्व विधायक नरेंद्र बोंडेकर यह बागी तेवर अपनाकर निर्दलीय मैदान में उतर गए, वहीं तुमसर सीट पर चरण वाघमारे (निर्दलीय) यह बीजेपी का खेल बिगाड़ रहे है। गोंदिया सीट पर कमोवेश यही हालात है, यहां पार्टी टिकट कटने पर विनोद अग्रवाल ने खुद को असली बीजेपी करार देते हुए निर्दलीय नामांकन पत्र दाखिल किया और चुनाव भी चुनाव की तरह लड़ा तथा भारी टक्कर दी, अब कयास यहीं लगाए जा रहे है कि, गोंदिया ग्रामीण क्षेत्र से चाबी को लीड मिलेगी, वहीं गोंदिया शहर में बीजेपी बढ़त हासिल कर सकती है?

कौन से बूूथ पर कौन सा चुनाव चिन्ह चला? इसे लेकर अब अकटलें लगायी जा रही है तथा उस क्षेत्र में अपने सक्रिय कार्यकर्ताओं के द्वारा यह जानकारियां इक्कठी की जा रही है कि आखिरकार ऊंट किस करवट बैठेगा? तिरोड़ा सीट पर भी भाजपा के विजय रहांगडाले और एनसीपी के गुड्डु बोपचे के बीच कांटे की ल़ड़ाई है और एैसी ही तस्वीर अर्जुनी मोरगांव विधानसभा क्षेत्र से भी उभरकर सामने आ रही है। यहां पूर्व मंत्री राजकुमार बडोले (फूल) का मुकाबला एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन के उम्मीदवार मनोहर चंद्रिकापुरे से हुआ है, इस सीट पर मुकाबला बेहद तगड़ा रहा। अब जीत का सेहरा किसके सिर सजेगा, यह देखना बाकि है?

आमगांव – देवरी विधानसभा क्षेत्र की बात करें तो जो रूझान प्राप्त हो रहे है, उसके मुताबिक यहां निर्दलीय प्रत्याशी तथा पूर्व विधायक रामरतन (बापू) राऊत कुछ विशेष करामत दिखा नहींं पाए है, अगर उनका सिक्का चलता को इसका नुकसान कांग्रेस के उम्मीदवार सहसराम कोरोटे को होता, जो होता दिखायी नहीं दे रहा, इस सीट पर भी मुकाबला बेहद रोचक है। कुल मिलाकर इस सीट पर भी मुकाबला तगड़ा है। किसी एक उम्मीदवार को एक तरफा जीत नसीब होगी, एैसा कहना उचित नही?

गोंदिया सट्टाबाजार – चाबी दावेदार
महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में सोमवार को हुए मतदान के बाद तथा तमाम खबरीयां चॅनलों के एग्जिट पोल रिपोर्ट आने के बाद अब सट्टाबाजार में भी चुनावी हार-जीत को लेकर दांव खेला जा रहा है।

सट्टा बाजार भी इस बात पर मुहर लगा रहा है कि, महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना युुती की सरकार सत्ता में आ रही है। भाजपा के १२० सीटों पर ६० पैसे, शिवसेना के ८५ सीट पर ३ रूपये, कांग्रेस को ३० सीट २.५० रूपये, एनसीपी ३० सीट ३.५० रुपये का भाव सट्टाबाजार में चल रहा है, वहीं गोंदिया सीट को लेकर विभिन्न टीवी चैनल भाजपा के पक्ष में रूझान दिखा रहे है तो सट्टा बाजार इसके उलट है।

इस धंधे में सक्रिय सटोरियों के मुताबिक गोंदिया के ग्रामीण क्षेत्रों में चाबी का ही जोर रहा और गोंदिया सीट पर चाबी का ही दबदबा है, इसलिए सट्टाबाजार निर्दलीय उम्मीदवार को जीत का दावेदार मान रहा है और चाबी ५० पैसे तथा फूल १.४० पैसे का भाव खोला गया है।

उल्लेखनीय है कि, जनता ने अपनी वोट की ताकत दिखा दी है, अब इससे परिणामों में क्या उलट फेर होगा? और किस प्रकार के नए राजनीतिक समीकरण बनेेंगे? इसके लिए २४ अक्टूबर तक सभी को इंतजार करना होगा।

– रवि आर्य