Published On : Wed, Oct 4th, 2017

स्वाइन फ्लू से अब तक 85 लोगों की मौत, 445 लोग पाए गए पॉजिटिव


नागपुर: नागपुर शहर समेत पूरे जिले में स्वाइन फ्लू का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है. नागपुर विभाग के स्वाइन फ्लू के आकड़े चौंकानेवाले हैं. जनवरी 2017 से लेकर अक्टूबर तक 445 लोगों का स्वाइन फ्लू का रिपोर्ट पॉजिटिव आया है. जिसमें से अब तक कुल 85 लोगों की मौत हो चुकी है. बुधवार को स्वाइन फ्लू के चलते एक और मौत हुई है. इस एक महीने में और चार लोगों की स्वाइन फ्लू की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है.

नागपुर विभाग में विदर्भ के कई जिले आते हैं. जिसमें कई मरीज नागपुर के मेडिकल हॉस्पिटल में तो अपना इलाज करा ही रहे हैं साथ ही इसके निजी अस्पतालों में भी स्वाइन फ्लू के मरीजों की भीड़ बढ़ रही है. बात करें नागपुर के मेडिकल हॉस्पिटल की तो वहां पर स्वाइन फ्लू वार्ड में मरीजों के लिए व्यवस्था तो की गई है. लेकिन उनके परिजनों के लिए कोई भी मास्क या फिर किसी तरह का उनको मार्गदर्शन का आभाव नजर आ रहा है. स्वाइन फ्लू ऐसी घातक बिमारी है. जिसके बारे में शिक्षित लोगों को इससे सावधानी बरतने की जानकारी होती है. लेकिन गांव से आनेवाले लोगों को इसकी जानकारी नहीं होती. इस कारण उन्हें इस बिमारी से अवगत कराने और उन्हें इस बिमारी के बारे में मार्गदर्शन करने की जरूरत स्वास्थ विभाग की है.

स्वास्थ मंत्रालय ने स्वाइन फ्लू से निपटने के लिए भरपूर इंतजाम किए हैं. जरूरत सिर्फ ये है कि स्वाइन फ्लू के लक्षण दिखते ही मरीज का इलाज शुरू करवा दिया जाए. लिहाजा आपका ये जानना जरूरी है कि स्वाइन फ्लू क्या है, और ये कैसे फैलता है. ये जानकारी तब और भी अहम हो जाती है जब सर्दी में बारिश से नमी बढ़ जाती है. दरअसल, ऐसे मौसम में ही तेजी से फैलता है स्वाइन फ्लू.

जैसे-जैसे ठंड बढ़ेगी. स्वाइन फ्लू बढ़ता जाएगा. नागपुर से लेकर दिल्ली तक स्वाइन फ्लू के मामले बढ़ते जा रहे हैं. दरअसल, स्वाइन फ्लू- वायरल बुखार है, यानी ये वायरस से फैलता है. बारिश की वजह से स्वाइन फ्लू का वायरस और घातक हो जाता है. वातावरण में नमी बढ़ने के साथ ही ये ज्यादा तेजी से फैलने लगता है. यही वजह है कि मौसम के बदलने के साथ एकाएक इसके मामलों की बाढ़ सी आ गई है. मौसम खराब होने के साथ बेशक स्वाइन फ्लू से होने वाली मौतें भी बढ़ रही हैं, लेकिन अगर इस बीमारी को अच्छी तरह से जान-समझ लिया जाए तो इसे पहचानना और इससे बचना भी आसान हो जाता है. किसी भी तरह से स्वाइन फ्लू के लक्षण दिखाई देने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करने की सलाह भी स्वास्थ विभाग की और दी जा रही है. बस इसके बारे में मरीजों को उनके परिजनों को डॉक्टरों की ओर से सही मार्गदर्शन करने की जरूरत है.