Published On : Thu, May 17th, 2018

सुपर के 6 आईसीयू का मामला गया ठंडे बस्ते में

GMCH Nagpur

नागपुर: शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेडिकल) स्थित सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में 6 अतिदक्षता विभाग (आईसीयू) बनाने का मामला ठंडे बस्ते में चला गया है। मुख्यमंत्री निधि से लगातार 5 वर्ष 20-20 करोड़ रुपए मिलने वाली एक भी किश्त अभी तक सुपर को नहीं मिली है। हैरानी की बात तो यह है कि यह निधि 2016-17 वित्तीय वर्ष के लिए मिलनी थे लेकिन वह अभी तक नहीं मिल सकी।

सुपर स्पेशलिटी अस्पताल बनने के 30 साल बाद भी सुपरस्पेशलिटी की मूलभूि सुविधाओं से जूझ रहा है। सुपर के 6 विभाग में आईसीयू बनाने के लिए मुख्यमंत्री निधि से 100 करोड़ रुपए की निधि को प्रशासकीय मान्यता दी थी। यह राशि हर साल 20-20 करोड़ रुपए की किश्त के रूप में मिलने वाली थी। लेकिन बड़ी-बड़ी घोषणाओं के बाद स्थिति आज भी वैसी ही बनी हुई है क्योंकि सुपर स्पेशलिटी अस्पताल को अभी तक एक भी किश्त प्राप्त नहीं हुई है। इससे सुपर को जिस तरीके से अपडेट करने की बात कही जा रही थी वह ठंडे बस्ते में चली गई।

आईसीयू में होंगे 30 पलंग
सुपर स्पेशलिटी के 6 विभागों में आईसीयू के 30 पलंग चालू करने की तैयारी है, प्रत्येक विभाग में 5 पलंग का आईसीयू होगा ऐसा विचार चल रहा है। इसमें कार्डियोलॉजी, कार्डियोवास्कुलर एडं थोरेसिस सर्जरी, नेफ्रोलॉजी, यूरोलॉजी, गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी, न्यूरोसर्जरी विभाग शामिल हैं।