Published On : Sat, Dec 22nd, 2018

ये पाखंडी गौ-रक्षक!

गौ माता?
पाखंड की हद है ये!
क्या कोई ‘पुत्र’अपनी ‘माता’ की गर्दन काटने के लिए बूचड़खाने के रुप में बाजाप्ता लाईसेंसी फैक्ट्री लगायेगा/लगाने देगा?प्रतिदिन हजारों माता की गर्दने काट,बाज़ार में उनके माँस बेचेगा?माँस का निर्यात करेगा?माता की गर्दन काट ,माँस बेच,हजारों करोड़ कमा अपना साम्राज्य कायम करेगा?गौ माता का माँस बेच,अर्जित धन से राजदलों को चुनाव लड़ने चंदा देगा?सत्ताधारी और विपक्ष के अन्य राजदलों से वाहवाही बटोरेगा ?
गौ माता!ये कैसे पूत हैं आपके?

एक ओर बूचड़खाने के लिये लाईसेंस जारी कर प्रतिदिन आपकी गर्दन कटवा रहे हैं,पैसा कमा रहे हैं।दूसरी ओर, आपकी आरती उतार,आपको गर्व से ‘माता ‘बुलाते हैं!पाखंड ही तो है ये?

एक फंडा निकाल लिया है वैध और अवैध का !
अरे धूर्तों!बूचड़खाने वैध/अवैध हो सकते हैं ।गौ माता तो नहीं!गर्दनें तो गौ माता की ही कट रही हैं!

बंद करो ये पाखंड !अन्यथा,खुद को गौ माता का पूत नहीं कहो।ऐलानिया, डुगडुगी बजा, घोषणा कर दो कि तुम सभी अपनी माँ के हत्यारे हो!

ये गोकशी-विरोध और गौ सेवा का नाटक बंद करो !
अगर सचमुच तुम गौ सेवक हो,गाय को अपनी माता मानते हो,तो सुनिश्चित करो कि भारत माता की इस धरती पर एक भी गौ माता की गर्दन नहीं कटेगी ।

बंद करो सारे वैध/अवैध बूचड़खाने!
गौ हत्या पर पूर्ण प्रतिबंध लगाओ!
गौ माता के ‘सपूतों ‘!

हिम्मत दिखाओ या घोषणा कर दो कि तुम सभी नपुंसक कौम की नपुंसक औलाद हो।गौ रक्षक नहीं,हत्यारे हो!अपनी गौ माता के हत्यारे हो!

धिक्कार है तुम सभी पर!
अपनी माँ की गर्दनें कटवा,माँस बिकवा,उन पैसों से हिस्सा ले सत्ता-सुख भोगी हो तुम सब!
गौ माता!क्षमा करेंगी।

आपके नाम पर ‘पाखंड-नृत्य’ देख स्वयं को रोक नहीं पा रहा ।