Published On : Fri, Jul 28th, 2017

स्कॉलरशिप के आवेदनों की मंद पड़ी चाल, 3.57 लाख में डेढ़ लाख आवेदन अब भी प्रलंबित

scholarship
नागपुर
: समाज कल्याण विभाग के तहत दी जानेवाली मेट्रिकोत्तर स्कॉलरशिप की चाल बीते कई दिनों से मंद पड़ती नजर आ रही है. संभाग के अधीन वर्धा, चंद्रपुर, गोंदिया, गडचिरोली, परभणी व भंडारा जिले के समाजकल्याण विभाग संचालित होते हैं. यहां से 2016-17 में 3 लाख 57 हजार 865 विद्यार्थियों ने स्कॉलरशिप के लिए आवेदन किया था. लेकिन महाविद्यालयों की लापरवाही के कारण कुल 58 हजार 641 विद्यार्थी व जिला स्तर पर 57 हजार 796 विद्यार्थी स्कॉलरशिप से वंचित रह गए हैं.

परभणी जिले में मेट्रिकोत्तर स्कॉलरशिप की योजना के साथ ही अन्य स्कॉलरशिप योजना का लाभ लेकर उसके अभिलेख दाखिल न करनेवाले जिले के विभिन्न शैक्षणिक संस्था का परभणी के समाज कल्याण विभाग के सहायक आयुक्त ने विरोध दर्शाया था. इस मामले में सम्बंधित समाज कल्याण कर्मचारी, अधिकारी व शिक्षण संस्थाओं पर की जानेवाली कार्वाइयों को लेकर विधायक अनिल सोले, नागो गाणार, मितेश बांगड़िया, गिरीश व्यास, अब्दुल्लाखान दुर्रानी ने सामाजिक न्याय मंत्री राजकुमार बड़ोले से सवाल किया है.

अब तक कुल डेढ़ लाख विद्यार्थियों के स्कॉलरशिप के आवेदन प्रलंबित है. जिला स्तर पर करीब 50 हजार आवेदन विद्यार्थियों तक कब तक पहुंचेंगे, यह सवाल भी शिक्षक विधायकों ने उठाया. इसके जवाब में सामाजिक न्याय मंत्री ने एक महीने के भीतर सभी विद्यार्थियों को स्कॉलरशिप देने की घोषणा की. साथ ही बताया कि स्कॉलरशिप से कोई भी विद्यार्थी वंचित नहीं रहेगा.