Published On : Mon, Mar 18th, 2019

स्कूली बच्चों से पालकों को वोट करने की अपील करने के प्रशासन के फ़रमान पर ऐतराज

नियम के बाहर जाकर छात्रों से वोट की अपील करने का मामला

नागपुर- जिलाधिकारी व जिला चुनाव अधिकारी की ओर से सभी स्कूलों को यह फरमान जारी किया गया है कि विद्यार्थी अपने माता पिता को ‘संकल्प पत्र ‘ के माध्यम से वोटिंग करने के लिए प्रेरित करें. यह नोटिफिकेशन जिलाधिकारी की ओर से जिला परिषद् के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, नागपुर महानगर पालिका और शिक्षणाधिकारी को दिया गया है. इसके लिए सभी स्कूलों के मुख्याधापकों को निर्देश दिया गया है. लेकिन विद्यार्थियों से संकल्प पत्र मंगवाने को लेकर ऐतराज जताया जा रहा है. इसे सरासर नियमों का उल्लंघन बताया जा है. आरटीई एक्ट में किसी भी तरह से इसका प्रावधान नहीं होने का दावा किया जा है.

इस बारे में आरटीई एक्शन कमेटी के चेयरमैन मो. शाहिद शरीफ का कहना है कि प्रशासन ने आदेश दिया है कि बच्चों को उनके माता पिता को वोट देने के लिए प्रेरित करे. सभी स्कूलों में बच्चों से लिखवाया गया कि उनके अभिभावक वोट दें. यह नियम नहीं है. शरीफ ने कहा है कि अगर इलेक्शन कमीशन को कुछ करना ही है तो लाखों वोटरों के नाम उनके इलेक्शन कार्ड में गलत है. वह पहले सुधारे. इलेक्शन में वोट देने के लिए नागरिक ज्यादा आएं, इसलिए बच्चों को परेशान किया जा रहा है. इसके साथ ही प्रशासन की ओर से यही भी कहा गया है कि स्कूल बस वोटरों को मतदान केंद्र तक लेकर जाएगी. जो सीधे सीधे नियमों उल्लंघन है. यह इलेक्शन बोर्ड ऑफ़ कंडक्ट का उल्लंघन है. यह नियम पूरे देश में केवल नागपुर में लागू करने की बात भी शरीफ ने कही.

इस बारे में डिप्टी शिक्षांधिकारी उमेश राठोड से संपर्क करने की कोशिश की गई. उन्हें मोबाइल द्वारा सन्देश भी भेजा गया. लेकिन उनकी ओर से कोई भी प्रतिसाद नहीं दिया गया.