Published On : Mon, Dec 8th, 2014

भद्रावती : सायको किलर चढ़ा पुलिस के हत्थे

 

  • तीन महीने पहले किया था 35 वर्षीय महिला का पानी में डुबाकर हत्या.महिला आन्ध्र प्रदेश निवासी थी.
  • माजरी पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी,आरोपी के खिलाफ साक्ष्य जुटाने में लगी पुलिस.पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ हत्या का खुलासा.
  • औरतों को मदद के आड़ में फांसकर बनाता था शारीरिक सबंध.
  • पुलिस के अनुसार जांच के बाद और घटनाओं के विषय में हो सकता है खुलासा.घटना के चश्मदीदों को सामने आकर पुलिस को सहयोग देने की उपविभागीय पुलिस अधिकारी सुनील जैसवाल ने की अपील.

सवांदाता / अतुल कोल्हे

Saiko Killer
भद्रावती (चंद्रपुर)।
अपराधी चाहे कितना भी शातिर क्यों न हो लेकिन कानून के लम्बे हाथ उसके गिरेबां तक पहुँच ही जाते हैं,जी हाँ ऐसा ही एक घटना माजरी पुलिस थाना क्षेत्र में हुआ. यह घटना 27 अगस्त की  है जिसमें हत्या का आरोपी संजय आत्माराम कुलसंगे उम्र 37 वर्ष रहवासी-सावरखेड़ा पुलिस थाना- वड़की जिला-यवतमाल ने सिरना नदी के किनारे एक अज्ञात 35 वर्षीय तेलगुभाषिक महिला का पानी में सिर डुबाकर मारने के बाद उस मृतक महिला लाश को नदी के किनारे पर खींचकर रख भाग निकला, माजरी पुलिस ने महिला के लाश को कब्जे में लेकर प्रक्रिया पूरी कर लावारिस  समझकर दाह संस्कार कर दिया माजरी पुलिस थाना के थानेदार गजानन ताम्टे के अनुसार महिला की मौत संदिग्ध परिस्थिती में हुई है 27 अगस्त को अपने दिए गए बयान में कहा था पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही घटना के विषय में कुछ कहा जा सकता है,बाद में गोपनीय तरीके से थानेदार ताम्टे, हेड पुलिस कांस्टेबल रणधीर मेश्राम और महादेव सरोदे ने इस मृत महिला के हत्या की गुत्थी सुलझाने में लग गए अन्तत: तीन महीने के लम्बी छान-बीन के बाद हत्यारोपी संजय कुलसंगे को 5 नवम्बर को सावनेर से धर दबोचा.

अब माजरी पुलिस आरोपी के निशानदेही पर घटनास्थल की पहचान करने के साथ साथ पूर्व के गुनाहों के जाँच में  भी लगी है. पुलिस के अनुसार 37 वर्षीय संजय आत्माराम कुलसंगे का विवाह सन1992 में हुई थी जिससे एक पुत्री का जन्म हुआ कुछ दिन के बाद 1993 में पत्नी की हत्या कर दिया तीन साल 1997तक यवतमाल के जेल में रहा साक्ष्य के आभाव में कोर्ट से बरी हो गया फिलहाल लड़की इसके बुरी नियत के कारण ननिहाल में रह रही है. जेल से निकलने के बाद कोरपना तहसील के वनतड़ी गाँव की एक औरत को रखैल के रूप में रखा जिससे दो बच्चे पैदा हुए आरोपी संजय के प्रताड़ना से त्रस्त होकर बच्चे को छोड़कर वह औरत जान बचाने के डर से कहीं और चली गई, फिर वणी तहसील के राजुर कालरी के एक मुस्लिम औरत से अवैध सम्बन्ध स्थापित कर रखैल बनाकर रखा उससे भी दो बच्चे पैदा हुए इसके रवैये से परेशान होकर यह औरत भी कहीं और भाग गयी, अब इसके दोनों बच्चे ननिहाल में बूढ़े नाना-नानी के सहारे पल रहे हैं.

यह घर में किसी तरह का काम नहीं करता था. इसके बूढ़े माँ बाप के मजदूरी के खर्च से घर का चूल्हा चौका चलता है. यह कभी फकीर कभी भिखारी का भेष पकड़ कर बस स्टैण्ड और रेलवे स्टेशनों पर भीख माँग कर अपना गुजारा करता रहा कुछ महिना भद्रावती तहसील के माजरी में भी ईंट भट्ठा पर काम करता रहा और माजरी के रेलवे स्टेशन पर जाकर खाने सोने का कार्य किया. शराब के नशे का आदती है आरोपी संजय किसी ट्रेन से आंध्रप्रदेश के काजीपेठ स्टेशन पर पहुँच गया उस स्टेशन पर तेलगु महिला से इसकी मुलाकात हुई पुलिस को दिए गए बयान के अनुसार यह औरत भूखी थी लेकिन भाषा नहीं समझ पाती थी आरोपी ने इशारे से खाने के लिए पूछा फिर वह औरत खाने के बहाने इसके करीब आ गई और फिर दोनों में आपसी सम्बन्ध स्थापित हो गए पति पत्नि के तरह दोनों साथ में ही भीख माँग कर रेल्वे स्टेशानों पर ही घूमकर गुजारा करने लगे कुछ दिन के बाद माजरी जंक्शन को अपने रहने का ठिकाना बनाया. घटना के दिन आरोपी ने बाजार से चिकन लाकर मृतक तेलगु महिला को बनाने के लिए कहा जिसे महिला ने इनकार कर दिया फिर दोनों आपस में लड़ते हुए माजरी जंक्शन से शिरना नदी के किनारे जाकर बैठे कुछ देर बाद आरोपी ने दोपहर के समय सुनसान देखकर महिला को नदी के किनारे ले जाकर सिर पकड़ कर नदी में डूबाकर मार डाला और उसकी लाश को किनारे पर छोडकर भाग गया. घटना की जानकारी राहगीरों ने माजरी पुलिस को दी.

शुरुआती दौर में तो जाँचकर्ता पुलिस दल को यही लगाकि इस अज्ञात महिला की मौत भूखे रहने या बिमारी के कारण हुई है लेकिन पोस्टमार्टम और बिसरा रिपोर्ट आने के बाद माजरी थानेदार गजानन ताम्टे को यह आभाष हुआ की दाल में जरुर कुछ काला है और महिला के सम्बन्ध में जानकारी हासिल करने के लिए जीजान से लग गए महिला इस परिसर में कैसे आयी? और किसके साथ रहती थी? साथ में रहने वाला व्यक्ति कौन था और उसका मृतक के साथ क्या सम्बन्ध था? इन्ही सब उलझे हुए सवालों के बीच उप विभागीय पुलिस अधिकारी सुनील जैस्वाल के दिशा निर्देश में जाँच अधिकारी गजानन ताम्टे, हेड कांस्टेबल रणधीर मेश्राम, महादेव सरोदे ने आरोपी की खोजबीन शुरू कर दिया तीन महीने एक सप्ताह के लम्बे जद्दोजेहाद के बाद यह शातिर सायको किलर पकड़ में आया जोकि औरतों के जिस्म का उपयोग सिर्फ अपनी हवस मिटाने के लिए करता था और मन भर जाने के बाद उन्हें ठिकाने लगाने में भी जरा भी नहीं हिचकता था. फिलहाल आरोपी 7 दिन के पुलिस रिमाण्ड में है. 12 तारीख तक रिमाण्ड में रखने के बाद इससे और कितने राज बाहर निकलेंगे. फिलहाल धारा 302 के तहत करवाई की गयी है. उपविभागीय पुलिस अधिकारी सुनील जैसवाल ने घटना के चश्मदीदों से सामने आकर गवाही देने की अपील की है. मृत महिला कहाँ की रहने वाली है अब भी पुलिस के लिए यह एक पहेली बनी हुई है.