Published On : Sun, Aug 8th, 2021
nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

RTE : ग्रामीण वेरिफ़िकेशन कमिटी ने किसान के बच्चे का भविष्य ख़राब किया

संचालक के आदेश को नज़रअंदाज़ कर प्रवेश रिजेक्ट ।जाँच की माँग।


नागपुर मुफ़्त शिक्षा के अधिकार अंतर्गत प्रवेश के संदर्भ में संचालक द्वारा पत्र जारी किया गया था और उस में प्राथमिकता से आवेदन की त्रुटियों को सुधारें करने का आदेश दिया गया था जिसमें जनम तारीख़,जाति और भूखंड क्रमांक को दुरुस्त करने का समावेश था ।आर टि ई एक्शन कमेटी के चेयरमैन शाहिद शरीफ़ को शिकायत प्राप्त हुई जिसमें किसान पालक के बच्चे की जन्म तारीख़ गलती से १२/७/२०१४ आवेदन में अंकित की गई थी

लेकिन वास्तव में बच्चे की जनम १२/५/२०२१ हैं इस संदर्भ में पालक में समिति को बताया भी लेकिन स्कूल से फ़ोन पर जानकारी मिली के तुम्हारा प्रवेश रद्द हो गया है और तुम शरद भंडारकर से जाके मिलो जो सदस्य सचिव है । नागपुर ग्रामीण पंचायत समिति की लापरवाही के कारण इस बच्चे के भविष्य के साथ बर्बाद हुआ ,क्यों की संचालक द्वारा आदेश अनुसार जिन बच्चों की जन्मतिथि में गलती हुई है उसको सुधार कर प्रवेश देने की बात की गई है

Advertisement

Advertisement

लेकिन समिति के अध्यक्ष व सचिव और वो एक ही सदस्य विजय कोडेवार की लापरवाही से इस बच्चे का भविष्य का नुक़सान हुआ है सवाल यह भी उठता है कि समिति में 20 सदस्य होते हैं लेकिन नागपुर ग्रामीण समिति में सिर्फ़ एक ही सदस्य विजय कोंडेवार के हसाक्षर अनेक आवेदनों में दर्शाए गए हैं और नियमानुसार संचालक के आदेश आने के बाद सभा आयोजित करना था लेकिन कोई सभा आयोजित नई की गई और ना ही प्रस्ताव पारित किया गया

यदि प्रस्ताव पारित किया होता तो संचालक के पत्र से आज ये बच्चे का भविष्य के साथ खिलवाड़ नहीं होता और हम माँग करते हैं कि सभी जाती के आवेदनों की जाँच होनी चाहिए ये क्योंकि सदस्यों को न बुलाकर कई निर्णय अपनी मर्ज़ी से ग्रामीण समिति के अध्यक्ष और सचिव ने लिए हैं जो के सीधा सीधा उच्च न्यायालय का उल्लंघन है क्योंकि समिति उच्च न्यायालय के आदेश पर आदेश पर स्थापित की गई है।इस बात का मैं ख़ुद साक्षी हूँ। की ग्रामीण अध्यक्ष द्वारा सभा का निमंत्रण मुझे आया नहीं।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement