Published On : Wed, Aug 18th, 2021

आर टि ई फ़र्ज़ीवाड़े मे ग्रामीण वेरीफिकेशन कमिटी सुबूत नष्ट करने के चक्कर में ख़ुद फँसी

रिजेक्ट किया हुआ प्रवेश किया दोबारा वेटिंग लिस्ट प्रक्रिया में नाम कैसे शामिल हुआ ? जब आवेदन रिजेक्ट हुआ ।


मुफ़्त शिक्षा के अधिकार अंतर्गत आज यह बात सिद्ध हो गई जहाँ एक और ग्रामीण वेरीफिकेशन कमिटी अपने काले कारनामों में पर्दा डालने मैं सफलता हुई लेकिन यह बात सिद्ध हो गई के नियमों को ताक में रखते हुए रिजेक्ट किया हुआ प्रवेश लास्ट डेट जाने के बाद वेटिंग लिस्ट आने के बाद हुआ जिसका जीता जागता सुबूत ऑनलाइन में दिखाई दे रहा है प्रवेश क्रमांक 21NG030739 जो की ३०/७/२०२१ को रिजेक्ट हो गया था

Advertisement

जन्म तिथि की गलती के कारण सिख और संचालक के दुरुस्ती के आदेश के बाद भी कमिटी ने रिजेक्ट किया था और इसकी शिकायत मोहम्मद शाहिद शरीफ़ चेयरमैन आर टि ई एक्शन कमेटी तथा सदस्य वेरिफ़िकेशन कमेटी इनके माध्यम से मुख्य कार्यकारी अधिकारी को जाँच के लिए ज्ञापन सौंपा गया था उसी के चलते बहुत बड़ा ख़ुलासा सामने आया जहाँ आम नागरिकों की गलतियों के लिए नियमावली बनायी हुई है

Advertisement

वहीं दूसरी ओर ये ऑनलाइन में हेरा-फेरी कर किसान के बच्चे का प्रवेश किया गया ग़ौर करने वाली बात यह है कि ३०/७/२०२१ आवेदन रिजेक्ट ११/०८/२०२१ को आवेदन रिजेक्ट १८/०८/२०२१ को आवेदन एडमिट चौंकाने वाली बात यह है कि आवेदन रिजेक्ट होने के बाद अंतिम तिथि जाने के बाद वेटिंग लिस्ट में एडमिट कैसे हुआ?ऐसे और भी घोटाले हैं और इसमें शरद भंडारकर और राजेश लोखंडे को तत्काल निलंबित करें कार्यकारी अधिकारी उसके पश्चात मामले और सामने आएंगे।

Advertisement

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement