Published On : Mon, Jan 23rd, 2017

हे राम नाथूराम नाटक का होगा विरोध – संभाजी ब्रिगेड

Hey Ram Nathuram

Representational Pic


नागपुर: 
लेखक-अभिनेता शरद पोंक्षे द्वारा नागपुर में आयोजित किये गए नाटक हे राम नाथूराम को लेकर काँग्रेस, राष्ट्रवादी काँग्रेस और संभाजी ब्रिगेड के विरोध की वजह से इसका मंचन नहीं हो सका। विरोध करने वाले राजनीतिक दल और संगठन ने मंगलवार को होने वाले इसके प्रयोग को फिर नहीं होने देने की बात कही है। संभाजी ब्रिगेड के प्रदेश संगठक अमोल मिटकरी ने इस नाटक के प्रयोग के लिए शरद पोंक्षे को राजनीतिक सहयोग हासिल होने का आरोप लगाया है। मिटकरी का कहना है की गाँधी जैसे महापुरुष को बदनाम करने की ये चाल है। नाटक के माध्यम से युवाओं का माइंडवाश किया जा रहा है यह देशद्रोह से कम नहीं इसलिए लेखक-अभिनेता शरद पोंक्षे पर देशद्रोह का मामला दर्ज किया जाये।

नागपुर में आयोजित पत्र परिषद में अमोल मिटकरी ने कहा कि एक तरफ देश के प्रधानमंत्री महात्मा गाँधी को वंदनीय बताते हैं, दूसरी तरफ शरद पोंक्षे जैसे लोग गाँधी की बदनामी कर गोडसे का पुरुषार्थ बता रहे हैं ? समाज में जातिवाद बढ़ाने का काम अभिनेता द्वारा किया जा रहा है इसलिए मंगलवार को होने वाले मंचन का विरोध किया जायेगा। पुणे में राम गणेश गड़करी का पुतला संभाजी ब्रिगेड ने हटाया था। गड़करी के राजसन्यास नाटक पर ब्रिगेड को आपत्ति है। संभाजी महाराज के नाम से बने उद्यान में उनका ही पुतला हो ऐसी कई वर्षो से माँग थी। अब वह गड़करी का तैलचित्र लगाया गया है उसे भी हटाया जायेगा।