Published On : Sat, Apr 20th, 2019

असमंजस में प्रधान मंत्री!

प्रधान मंत्री मोदी फिर चूक गये।

वीर शहीद हेमंत करकरे को ‘देशद्रोही ‘बताने वाली साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का बचाव कर प्रधान मंत्री ने न केवल स्वयं को,बल्कि भाजपा को भी कटघरे में खड़ा कर दिया है।प्रज्ञा की टिप्पणी पर पहले से ही उद्वेलित देशवासी और भी उद्वेलित हो गये हैं।मालूम हो कि कुख्यात 26/11के आतंकी हमले के दौरान,मुंबई में पाकिस्तानी आतंकियों का मुकाबला करते वीर हेमंत करकरे ने अपनी कुर्बानी दे दी थी ।

‘टाइम्स नाउ’ को इंटरव्यू देते हुए प्रधान मंत्री मोदी बोल गये कि,” रायबरेली और अमेठी के उम्मीदवार ‘बेल’ पर हैं तो कोई चर्चा नहीं हो रही।लेकिन,भोपाल की उम्मीदवार ‘बेल’ पर हैं,तो तूफान खड़ा हो गया।”


प्रधान मंत्री ‘बेल’पर चल रहे सोनिया-राहुल और साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की चर्चा कर रहे थे।मोदी की परेशानी को समझा जा सकता है।करीब-करीब हर चुनावी सभा में प्रधान मंत्री मोदी ‘बेल’ ,अर्थात् जमानत पर चल रहे सोनिया और राहुल गांधी की खिल्ली उड़ाते रहे हैं।उनका अनुसरण कर भाजपा के अन्य मंत्री/नेता भी ऐसा करते रहे हैं ।लेकिन,’बेल’,पर जेल से बाहर हुई साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को जब भोपाल से भाजपा ने उम्मीदवार बनाया,तो भाजपा पर प्रहार होने लगे।प्रधान मंत्री मोदी अब परेशान कि सोनिया-राहुल का मजाक कैसे उड़ाया जाये?सो,प्रधान मंत्री ने साध्वी को लेकर उठे ‘तूफान ‘की चर्चा कर डाली!

लेकिन,प्रधान मंत्री मोदी भूल गये कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी आर्थिक अपराध के आरोपी हैं,जबकि साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर बम विस्फोट और हत्या जैसे संगीन अपराध की आरोपी!जमानती धाराओं के कारण सोनिया-राहुल को अदालत ने आरंभ में ही जमानत दे दी,जेल नहीं जाना पड़ा।जबकि,साध्वी प्रज्ञा सिंह को,गंभीर अपराध के कारण जेल जाना पड़ा।तब उन्हें जमानत नहीं मिली थी ।वर्षों जेल में रहने के बाद,’खराब स्वास्थ्य’के आधार पर,उन्हें जमानत मिली-जेल के बाहर आईं!

अब,जबकि भाजपा ने उन्हें भोपाल लोक सभा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया है,वे तत्कालीन सरकार पर ‘प्रताड़ना ‘के गंभीर आरोप लगा रही हैं।इस संदर्भ में,ये जानना दिलचस्प कि तब मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार ने, जिसके मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान थे,साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को हत्या के आरोप में गिरफ़्तार किया था ।