Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Fri, Jan 24th, 2020

    गणतंत्र दिवस के लिए तैयार हो गए शहर के बाजार

    नागपुर: गणतंत्र दिवस का जुनून युवाओं से लेकर बाजार पर भी चढ़ता नजर आ रहा है. अब तब प्रमुख सामाजिक-धार्मिक पर्वों पर ही लोग स्टाइलिस्ट होकर नये-नये परिधान-परिवेश में आकर्षक दिखाई देते रहे हैं, लेकिन अब राष्ट्रभक्ति का जोश युवाओं में इस कदर छा रहा है कि जुनून और जज्बा देखते ही बनता है. गणतंत्र दिवस पर बाजार भी इनसे अछूता नहीं है और इसी जोश और राष्ट्र पर्व को मनाने का उत्साह-उमंग देखते हुए देशभक्ति की नई स्टाइलिस्ट सामग्रियों से बाजार पटा पड़ा है.

    इनमें कपड़े और कागज के तिरंगे से लेकर तिरंगा केप, टैटू, पतंगे, डेकोरेटिव बॉटल, पतंग, टी-शर्ट जैसी तमाम चीजें शामिल हैं. इसके साथ ही तिरंगा दुपट्टा व सूट भी महिलाओं के बीच बहुत पॉपुलर हो रहे हैं. अपने आप को देशभक्ति के रंग में रंगा दिखाई देने के लिए हैंड बैंड, बलून, फ्लेग, केप, स्टीकर, तिरंगा चूड़ियों का सेट, ईयरिंग, नेल आर्ट आदि आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं.

    5 से 200 रुपए तक में सामग्री
    इतवारी, महल, धरमपेठ सहित अन्य स्थानों पर तिरंगों को कई रूपों में लेकर बैठे दूकानदारों में से एक संजय बताते हैं कि इस वर्ष टी-शर्ट और टैटू पर भी तिरंगा छाया हुआ है. इसके अलावा बैच, फ्लेग, बलून के साथ ही हैंडबेल्ट, दुपट्टे, कपड़े और प्लास्टिक की केप भी तिरंगा है. जो 5 रुपए से लेकर 200 रुपए तक में उपलब्ध हैं. वहीं शहर के हर एक चौराहे पर छोटे-छोटे बच्चे और बड़े कारों में लगने वाला 2 तिरंगा का सेट और छोटे-बड़े तिरंगे लेकर बेचते नजर आ रहे हैं. वहीं गांधी टोपी की बाजार में अच्छी-खासी डिमांड हो रही है. इसके साथ ही फैमिली टी-शर्ट भी धूम मचा रही है.

    570 से 1125 रुपये की रेंज
    26 जनवरी रविवार को मनाया जाएगा, जिसके चलते शहर के प्रमुख बाजारों में तिरंगा छाया हुआ है. खादी कपड़े से लेकर कागज तक तिरंगा अपनी चमक बिखेर रहा है. खादी की अभी कई नई-नई संस्थाएं खुली हैं, जिनमें झंडों की मांग बढ़ी है. इस वर्ष तिरंगा की कुछ अधिक ही डिमांड हो रही है. राष्ट्रध्वज हमारी आन-बान-शान का प्रतीक है. खादी की बात करें तो राष्ट्र ध्वज की सिलाई, चक्र के अंदर तिल्ली-बिंदी 24-24 दोनों तरफ एक समान होती है. यहां तक की साइज का भी बड़ा महत्व है. दो से तीन फीट के अलावा तीन से साढ़े चार फीट के झंडों की डिमांड अधिक होती है. समय के साथ-साथ खादी का क्रेज बढ़ते जा रहा है. आज खादी एक फैशन के रूप में देखी जाने लगी है, जिसके चलते युवाओं में इसकी काफी डिमांड है.

    कार्ड्स और पोस्टर में राष्ट्रगान की धुन
    बाजार में मौजूद कई आइटम्स में जन गण मन की धुन सेट की हुई है. कार्ड व पोस्टर में यह धुन बच्चों को खूब लुभा रही है. दूकानदार पारस ने बताया कि कार्ड पहले सिर्फ बच्चे ही खरीदते थे, लेकिन अब इसे हर उम्र के लोग भी खरीद रहे हैं क्योंकि इसके साथ कैलेंडर भी अटैच हैं.

    मोबाइल की डीपी और रिंगटोन्स में भी देशभक्ति
    2 दिन ही शेष होने के चलते लोग अपने मोबाइल पर देशभक्ति के रिंगटोन लगा रहे हैं तो कोई तिरंगा झंडे की डीपी अपने मोबाइल में सेट कर रहे हैं. वहीं लोग एक-दूसरे को मोबाइल के माध्यम से विविध तरह के स्टीकर के साथ देशभक्ति के ऊपर आडियो क्लिप भेज रहे हैं.

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145