Published On : Tue, Jan 6th, 2015

अकोला : आटो रिक्शा में अब लगेगा पुलिस पहचान क्रमांक

Advertisement

 

  • अवैध फलक, झंडों पर आज से कार्रवाई
  • अब आटो रिक्शापे पुलिस आईडेंटीटी नंबर
  • आटो रिक्शा चालकों से क्रमांक के बदले कोई शुल्क नहीं
  • अकोला मे दौडती है 4 हजार आटो रिक्शा

अकोला। शहर में बेतहाशा बढ रही आटो रिक्शा की तादाद के कारण यातायात में होने वाली दिक्कतों को कम करने, आकस्मिक अवसर पर आटो रिक्शा से संबंधित जानकारी पुलिस रिकार्ड में दर्ज रहने के उद्देश्य से अकोला पुलिस ने शहर के 3 हजार आटो रिक्शाओं को क्रमांक देने का फैसला किया है. पुलिस आईडेंटीटी नंबर के रूप में बनने वाले नंबर के स्टीकर पर पुलिस प्रशासन तथा जारीकर्ता थाने की मुहर होगी ताकि कोई आटो रिक्शा चालक फर्जी क्रमांक न लगा सके. इसके अलावा मंगलवार से पुलिस प्रशासन महापालिका के सहयोग से अवैध होर्डिंग, बैनर एवं ध्वज, पताकाएं निकालने का काम आरंभ करने जा रही है.

जिन लोगों ने शहर में इस तरह के फलक या ध्वज लगाकर शहर विद्रुप किया है वे इस तरह के फलक आदि निकाल लें अन्यथा उनके खिलाफ नियमानुसार कडी कार्रवाई की जाएगी, ऐसी चेतावनी उपविभागीय पुलिस अधिकारी डा. प्रवीण मुंडे ने आज पत्रकार परिषद मे दी. राजनीतिक नेताओं के आगमन, किसी नेता के जन्मदिन या उसे कोई पद मिलने पर लगाए जाने वाले शुभकामना के फलक सार्वजनिक स्थान पर लगाने से पूर्व महापालिका परवानगी अनिवार्य कर दी गर्इं है. संबंधित व्यक्ति को किसी आयोजन के दौरान यदि सडक पर स्वागतगेट, या बैनर लगाना है अथवा फलक लगाना है तो उसकी अनुमति लेकर संबंधित फलक या बैनर पर ही अनुमति क्रमांक तथा कब से कब तक की अनुमति है इसका दिनांक प्रदर्शित करना अनिवार्य होगा. अन्यथा शहर विद्रुपीकरण अधिनियम के अधीन ऐसे बैनर, पोस्टर पुलिस प्रशासन अपने अधिकार क्षेत्र के तहत निकालेगा. अदि आवश्यकता पडी तो निकालने का खर्च या सडक पर गडढा करने पर उसे पाटने के लिए लगने वाला खर्च संबंधित व्यक्ति से वसूलेगा.

Advertisement
Advertisement

अकोला पुलिस ने मंगलवार 6 जनवरी से यह अभियान कडाई से आरंभ करने का फैसला किया है. अकोला में अवैध, निजी एवं ग्रामीण परमीटधारी आटो रिक्शाओं की भरमार है. जिससे शहर में वाहनों की भीड बढती है. आटो रिक्शा चालकों से क्रमांक के बदले कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा. अलबत्ता आटो रिक्शा का चेचीस नंबर, वाहन क्रमांक, मालिक का नाम, मोबाईल क्रमांक आदि विवरण भर पत्र लेकर पुलिस रिकार्ड में उसका पंजीयन किया जाएगा. ताकि किसी आकस्मिक अवसर पर संबंधित आटो रिक्शा की पहचान की जा सके. इसलिए यातायात नियमों का पालन कर पुलिस को सहयोग करने की अपील भी उन्होंने की.

File pic

File pic

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement