Published On : Wed, Aug 18th, 2021

दुर्घटना में मारे गए व्यक्ति का अंगदान

-समाज के सामने स्थापित किया आदर्श: महापौर
-आई.एम.ए. अध्यक्ष ने की रिश्तेदारों की सराहना

नागपुर: अंग दान सप्ताह के अवसर पर नागपुर महानगरपालिका और आई.एम.ए. की ओर से जन जागरूकता अभियान जारी है। जिन दुर्घटना में घायल व्यक्तियों की इलाज के दौरान मौत हो गई है ऐसे व्यक्तियों के रिश्तेदारों ने इन व्यक्तियों का अंगदान किया है। इसके चलते तीन नागरिकों को जीवनदान और दो नागरिकों की आंखों की रोशनी वापस मिल गई है।

जिस व्यक्ति का अंग दान किया गया, वह चंद्रपुर जिले के ब्राहपुरी तहसील का निवासी दयानंद सहारे है। सहारे की गाड़ी आर्मरी में दुर्घटनाग्रस्त हुई थी। हादसे में उन्हें सिर में चोट लगी। नागपुर के विम्स अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। मृतक के अंगों को दान करने के लिए विम्स अस्पताल के डॉक्टरों ने रिश्तेदारों को राज़ी किया। परिवार की सहमति के बाद, सरकार के नियमों के अनुसार अंग दान की प्रक्रिया पूरी हो गई। एक किडनी न्यू इरा अस्पताल, एक किडनी वोकहार्ट अस्पताल, साथ ही फेफड़े मेडिट्रिना अस्पताल में दान किए गए। मृतक की आंखों को जीएमसीएच के डॉक्टरों को दान कर दिया गया। उनका दिल लेने के लिए चेन्नई से डॉक्टरों की एक टीम नागपुर आई थी। लेकिन अधिक उम्र और कमज़ोर दिल के कारण, दिल नहीं दिया जा सका।

महापौर दयाशंकर तिवारी ने सहारे परिवार और विम्स अस्पताल के डॉक्टरों की सराहना की। उन्होंने कहा कि नागपुर महानगरपालिका और आई.एम.ए के सहयोग से मनापा के आधिकारिक फेसबुक पेज से जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने नागरिकों से अंगदान के लिए आगे आने की अपील की। सहारे ने तीन लोगों को ज़िंदगी देने के साथ-साथ दो नागरिकों को आँखों की रोशनी भी दी।

आई.एम.ए. अध्यक्ष डॉ. संजय देवतले ने सहारे परिवार और डॉक्टरों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि अंगदान के ज़रिए जीवनदान किया जा सकता है। उन्होंने नागरिकों को बड़ी संख्या में अंगदान करने का आवाहन किया।