| | Contact: 8407908145 |
    Published On : Tue, Jul 25th, 2017
    nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

    मनमानी करनेवाले कॉलेजों पर हो कार्रवाई : एन.एस.यू.आई


    नागपुर: 
    राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय ने सेंट्रलाइज़्ड एडमिशन के तहत वेबसाइट पर कॉलेजों और महाविद्यालयों की सूची जाहिर की थी. लेकिन यह सूची एक महीने पहले की है. जिससे विद्यार्थी इसी सूची को देखकर कॉलेज में एडमिशन के लिए पहुंच रहे हैं. लेकिन कॉलेज द्वारा उन्हें बैरंग वापस लौटाया जा रहा था. स्पॉट एडमिशन की जानकारी और खाली सीटों की जानकारी वेबसाइट पर नहीं डाली गई है. जिसे लेकर विद्यार्थियों में भारी रोष है. एन.एस.यू.आई संगठन के पदाधिकारियों और विद्यार्थियों ने गत सप्ताह ही एडमिशन न देनेवाले कॉलेजों और गलत ढंग से एडमिशन देनेवाले कॉलेजों पर कार्रवाई की मांग की थी. लेकिन नागपुर विश्वविद्यालय द्वारा इस मामले में कोई भी ठोस कदम नहीं उठाए जाने से एक बार फिर सोमवार को संगठन की ओर से विश्वविद्यालय के गेट के सामने विश्वविद्यालय के खिलाफ प्रदर्शन किया.

    एन.एस.यू.आई के पदाधिकारी जब इस मामले से संबंधित निवेदन कुलगुरु डॉ. सिध्दार्थविनायक काणे को सौपने गए तो उन्हें विश्वविद्यालय में तैनात महाराष्ट्र राज्य सुरक्षा बल के कर्मचारियों ने आने से रोक दिया. जिसके बाद विद्यार्थियों और पदाधिकारियों का सुरक्षा बल के बीच शाब्दिक झड़प हो गई. इस दौरान विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से बर्डी पुलिस को बुलाया गया. जिसके बाद सभी विद्यार्थियों और एन.एस.यू.आई के पदाधिकारियों को पुलिस थाने ले आई. जहां से उन्हें कुछ देर बाद छोड़ दिया गया.


    इस प्रदर्शन का नेतृत्व एन.एस.यू.आई के प्रदेशाध्यक्ष अजित सिंह व प्रदेश सचिव अभिषेकवर्धन सिंह ने किया. इस आंदोलन में मुख्य रूप से संगठन के जिलाध्यक्ष आमिर नूरी, नीलेश कोढे, रोशन कुंभलकर, प्रतीक कोल्हे, विनोद हजारे, सादाफ सोफी, नागेश गिरे, विनोद नोकरिया, गुंजन ठाकुर, प्रफुल कुवेरिया, स्नेहल देशमुख, प्रतीक्षा पांडे, तस्लीम हुसैन, धीरेन्द्र त्रिपाठी, प्रतीक जीवतोडे, भूषण आगरकर, आशीष अटल, अखिल लंगड़े, योगेश खंडाले, कृष्णा गिरहा, अंकित राउत मौजूद थे.

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145