Published On : Sun, May 9th, 2021

दुनिया में मां जैसा कोई नहीं ” मां तुझे सलाम “

मदर्स- डे पर प्रसिद्ध हस्तियों ने मां के साथ बिताए पलों को किया साझा

गोंदिया । देश मे कोरोना संकट के कारण इस बार देश की महिलाओं ने अयोध्या से उत्तर प्रदेश सिंधी युवा समाज की ओर से आयोजित “ऑनलाइन मदर्स- डे वेलकम इवेंट ” मैं शामिल होकर अपनी माँ के साथ बिताये पलों को साझा किया ।

प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश ओमी ने देश के विभिन्न राज्यों की महिलाओ को मदर्स- डे की बधाई देते हुए उनके विचारों व यादों से अवगत हुए,विश्व सिंधी सेवा संगम से जुड़ी बैंगलौर से निशा बतरा ने कहा कि मेरी माँ दृढ़ इच्छाशक्ति वाली महिला है आत्मविश्वास और अनुशासन मैने माँ से सीखा है आमतौर पर हर वर्ष मदर्स डे पर मैं फूल और केक भेजा करती हूं ।

इस वर्ष राष्ट्रीय स्तर पर मिसेस इडिंया का खिताब जीतने वाली उल्हासनगर की खुश्बू शेवानी ने कहा कि परिवार का मूल्य और उसका महत्व समझाने से लेकर इस वयवस्था पर भरोसा करने मे मदद करने से लेकर मेरी माँ ने मुझे सबकुछ सिखाया है मुझे ऐसा लगता है कि हमें हर दिन मदर्स डे मनाना चाहिए।

सिंधी काउंसिल आफ इडिंया महिला विंग इंदौर की उपाध्य्क्ष कोमल रामानी ने कहा कि मां ने मुझे हमेशा बड़ों का सम्मान करना सिखाया है और काम के प्रति ईमानदार रहना सिखाया है। बिहार की राजधानी पटना की रहने वाली गृहणी जया मोटवानी कहती है कि हर बच्चा अपनी माँ के करीब होता है खासकर लडकियां, मेरी माँ ब्यूटीशियन है और मैने उनसे काफी कुछ सीखा है मैेने बचपन से ही उन्हें चेहरे पर सदैव मुस्कुराहट रखते हुए अपना कर्तव्य निभाते और परिवार को संभालते हुए देखा है।

हर्षा केशवानी संरक्षिका ऊर्जा महिला संगठन वाराणसी ने कहा कि बचपन से ही मेरी माँ ने मुझे आत्मनिर्भर होने की सीख दी है जिसकी वजह से आज मै बेहद आत्मनिर्भर और मजबूत महिला बन पाई हूं, दिल्ली की मशहूर सिंगर नीतू मटाई ने मदर्स डे पर चर्चा करते हुए कहा कि मेरी माँ ने अनगिनत त्याग किए है और उसके लिए उनका जितना शुक्रिया अदा करूं कम है, मां जैसा इस दुनिया मे कोई नही है ? लखनऊ की अनीता केसवानी गृहणी कहती है कि मां से मुझे सबसे अच्छी सीख मिली है कि हम दुनिया मे काफीं कम समय के लिए आए है और हमें यह फैसला करना है कि जिदंगी को हंसकर जीना है।

बिलासपुर भारतीय सिंधू सभा की सदस्य मुस्कान बच्चानी ने कहा कि मां ने हमेशा यही सिखाया है कि जिदंगी मे आने वाले उतार चढ़ाव के बावजूद मानसिक रुप से सहज और स्थिर बने रहना चाहिए।

रवि आर्य