Published On : Fri, Jan 26th, 2024
nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

नागपुर संत निरंकारी समागम: हर पल का ” सुकून ” सिर्फ सतगुरु से ही मिलेगा

Advertisement

नागपुर। अपने अंतर्मन की ताकत को पहचानने वाले लोग हर पल शांत और संयमित रहते हैं । प्रेम सेवा भक्ति धैर्य जैसे सद्गुणों को जीवन में अपनाकर हम अच्छी सोच के साथ जीना सीख जाएं तो बुरी स्थितियां अपने आप खत्म हो जाएंगी।

संसार में वासुदेव कुटुंब की भावनाओं को प्रेरित करने के लिए निरंकारी मिशन संपूर्ण भारत के राज्यों में संत समागमों का आयोजन समय-समय पर करता है , इस वर्ष महाराष्ट्र का 57 वां वार्षिक निरंकारी संत समागम नागपुर के मिहान में 26 , 27, 28 जनवरी को आयोजित किया जा रहा है जहां निरंकारी सतगुरु माता सुदीक्षा जी महाराज , निरंकारी राजपिता रमितजी के सानिध्य में लाखों भक्त हिस्सा लेंगे इस बात की जानकारी आयोजित पत्र परिषद में देते हुए मेंबर इंचार्ज ( प्रचार प्रसार विभाग ) मोहन छाबड़ा ने बताया – लगभग 300 एकड़ का यह ग्राउंड जीरो लेवल का था , वॉलिंटियरों ने सेवा कर इसे शामियाने के खूबसूरत नगरी में तब्दील कर दिया है , 52 एकड़ में सत्संग पंडाल और विभिन्न ऑफिसेस बने हुए हैं जिसमें दो कैंटीन भी हैं इसके अलावा 175 एकड़ जमीन पर भक्तों के रहने की व्यवस्था की गई है साथ ही डिस्पेंसरी , सुरक्षा प्रबंधन , फायर ब्रिगेड , एंबुलेंस , कचरा निपटान प्रबंधन , लंगर , बाहरी परिसर में 3 कैंटीन , बाल प्रदर्शनी , ट्रांसपोर्ट विभाग सहित पार्किंग व्यवस्था की गई है।

Advertisement

प्रेम का संदेश , विश्व बंधुत्व का संदेश

Advertisement
Advertisement

प्रेस पब्लिक सिटी मेंबर इंचार्ज राकेश मुटरेजा ने कहा – ‘ सुकून ‘ अंतर्मन का यह सत्संग का विषय है , पहचानें अंतर्मन की शक्ति को वह आने के बाद फिर जब आप एकता की- समानता की निगाह से देखते हैं तो आपको सारा संसार एक दिखता है फिर ना राजनीति है , ना कूटनीति ?

मानव हो मानव को प्यारा.. एक दूजे का बने सहारा यही सतगुरु माता जी का संदेश है , सारी मानवता एक परमात्मा की संतान है , प्यार के साथ विनम्रता सहनशीलता के साथ एक दूसरे को स्वीकार करते जीना सीखें यही प्रेम का विश्व बंधुत्व का संदेश है।

आयोजित पत्र परिषद में उपस्थित कोऑर्डिनेटर ( प्रेस पब्लिक सिटी ) विमल सिंग जी ने कहा- सतगुरु माता जी की अध्यक्षता में उनकी छत्रछाया में तीन दिवसीय सत्संग होगा तत्पश्चात 29 जनवरी को सामूहिक शादियां उनके हुजूरी में होंगी।

प्रत्यक्ष देखने पर शब्दों की आवश्यकता नहीं पड़ती आप मीडिया कर्मी समागम को देखें अनुभव के आधार पर सभी प्रश्नों के उत्तर आपको अपने आप मिल जाएंगे।

लंगर सेवा , भक्तों के रहने का बंदोबस्त व अन्य समुचित व्यवस्थाएं जब भी आप आएंगे आपको एक अलग ही नज़ारा देखने को मिलेगा , आप रोड पर खड़े एक सेवादार को देखेंगे वह भी आपका दिल जीत लेगा निष्काम सेवा भाव से ।

पत्र परिषद में उपस्थित समागम समिति के चेयरमैन शंभूनाथ तिवारी , मीडिया समन्वयक महाराष्ट्र डॉ दर्शन सिंह तथा अध्यक्ष समागम समिति किशन नागदेवे ने कहा – हर पल का सुकून सिर्फ सत्संग और सतगुरु से ही मिलेगा , नागपुर का समागम मानव को ब्रह्म की अनुभूति कराकर आत्म उत्थान के लिए प्रेरित करने वाला साबित होगा इसके ज़रिए व्यक्ति सुंदर जीवन जीते हुए इस धरती के लिए वरदान बन सकता है ।

*रवि आर्य*

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
 

Advertisement