Published On : Thu, Feb 26th, 2015

रिसोड न.प. में रांकपा-कांग्रेस ने सत्ता बांटी

Advertisement


रिसोड न.प अध्यक्षा भारती क्षीरसागर तथा उपाध्यक्षा शिवनंदा केदारे नवनिर्वाचित 

n.p. risod-2015
रिसोड (वाशीम)। रिसोड न.प. अध्यक्ष पद तथा उपाध्यक्ष के चुनाव के लिए बुधवार को विशेष सभा बुलाई गई थी. जिसमें अध्यक्ष पद के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस की भारती क्षीरसागर और उपाध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस की शिवनंदा शिवशंकर केदारे का बिनविरोध चयन हुआ.

रिसोड न.प. नगराध्यक्षा प्रतिभा उल्हास झड़पें ने 9 फरवरी को जिलाधिकारी वाशिम की ओर राजीनामा पेश किया था. जिलाधिकारी वाशिम आर.जी. कुलकर्णी ने राजीनामा स्वीकार करते हुए न.प. अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए विशेष सभा बुधवार सुबह 11 बजे बुलाई. इस सभा में बरिसोड नगराध्यक्ष और उपाध्यक्ष की चुनाव प्रक्रिया की गई. सुबह 9 से 11 बजे तक इस पद के लिए नामांकन भरा गया. इसमें मुख्याधिकारी के पास 11 बजे तक नगराध्यक्ष पद के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस की भारती क्षीरसागर का नामांकन किया. वहीं उपाध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस की शिवनंदा शिवशंकर केदारे ने अपना नामांकन दर्ज किया.

Advertisement

उसके बाद 11 बजे न.प. सभागृह में सभा की शुरुवात हुई. पहले आधे घंटे में आए नामांकनों की छटाई की गई और नामांकन में उम्मीदवारों का नाम पढ़ा गया. उसके बाद 15 मिनीट नामांकन वापिस लेने का समय दिया गया. विशेष सभा के पीठासीन अधिकारी तथा उपविभागीय अधिकारी अशोक अमानकर ने उम्मीदवारों की सूची उपस्थित न.प. सदस्य को पढ़कर सुनाई और इस सूची में हर पद के लिए एक-एक नामांकन दर्ज होने से यह नामांकन वैध हुआ. इसमें रिसोड नगरपरिषद के अध्यक्ष पद पर भारती क्षीरसागर और उपाध्यक्ष पद पर कांग्रेस की शिवनंदा शिवशंकर केदारे बिनविरोध निर्वाचित हुए. इस दौरान उपस्थित न.प. सदस्यों ने अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का अभिनंदन किया. इस विशेष सभा के पीठासीन अधिकारी राजस्व विभाग के उपविभागीय अधिकारी अशोक अमानकर थे. वहीं सहाय्य न.प. मुख्याधिकारी दिपक इंगोले, वरिष्ठ लिपिक रामेश्वर लहुड़कर, प्रतापराव देशमुख ने सहकार्य किया.

नवनिर्वाचित अध्यक्ष और उपाध्यक्ष ने कांग्रेस के जेष्ठ नेता पूर्व खासदार अनंतराव देशमुख के निवास्थान पर जाकर उनका आशीर्वाद लिया. इस दौरान नवनिर्वाचित अध्यक्ष-उपाध्यक्ष ने शहर के विकास के लिए पतिबद्ध होने की प्रतिक्रिया व्यक्त की. विशेष सभा में नगरसेवक यशवंत देशमुख, अलंकार खैरे, सागर डांगे, मोहनराव देशमुख, रियाज खां. अजगर अली समेत 20 सदस्यों की उपस्थिति थी.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement