Published On : Sat, Jun 13th, 2015

योग दिवस पर मुस्लिमो को योगा से जोड़ रहा राष्ट्रीय मुस्लिम मंच

Advertisement

nagpur-muslim-yoga
Nagpur
: 21 जून को सारा विश्व योगा दिवस मनाएगा | खुद देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजधानी में योगा करेंगे | 21 जून को भले ही विश्व योगा दिवस की मान्यता मिल चुकी हो और ये देश के लिए गर्व की बात हो ,पर भारत में ही योगा को लेकर घमासान सान मचा हुआ है | इस बात पर राजनीति भी शुरू है ,योग भले ही भारत की संस्कृति से जुड़ा हो , पर विरोध इस बात पर मचा है की योगा हिंदू धर्म से जुड़ा है तो मुस्लिम इसमे कैसे सहभागी हो सकते है |

हालांकि कई मुस्लिम धार्मिक संगठनो ने योगा के दौरान मंत्रो पढने के नियम को हटाने की शर्त अपना समर्थन जाहिर भी किया है | पर समर्थन – विरोध के खेल में मुस्लिम समुदाय के बीच पशोपेश की स्थिति है | पर इस उलझन को सुलझाने का जिम्मा राष्ट्रीय मुस्लिम मंच ने लिया है |

यह मंच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का हिस्सा है | हिंदुत्व वादी छवि से हटकर मुस्लिम समुदाय के बीच खुद की मौजूदगी दर्ज करने के लिए सन 2002 में मंच की स्थापना की गई थी | अब जब एक बार फिर योगा की वजह से मुस्लिमो से दुरी की स्थिति बनती दिखाई दे रही है तो राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के देश भर के 325 जिले में मौजूद करीब 25 हजार कार्यकर्ता लोगो के बीच जा – जा कर योग का महत्व बताकर मुस्लिम समुदाय को इससे जोड़ने का काम जोरो शोरो से कर रहे है | नागपुर में मंच के सदस्य वैशाली नगर के आंबेडकर उद्यान में नियमित योग कर रहे है |

Advertisement
Advertisement

मंच के नागपुर शहर के संयोजक अतीक खान का कहना है योग किसी धर्म का नहीं है ,न इसे करने से किसी की साधना होती है ,यह एक क्रिया है जिसे करने से तन और स्वास्थ रहता है | राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के कार्यकर्ता न सिर्फ रोज खुद योगा करते है बल्कि शहर में मौजूद करीब 500 कार्यकर्ता मुस्लिमो के बीच जाकर उन्हें भी योग फायदे समझकर खुद के साथ जोड़ने का प्रयास कर रहे है |

अतीक के मुताबिक अब मुस्लिमो के बीच आरएसएस को लेकर मजबूत भरोषा बना है ,इसलिए लोग उनकी बात सुनते और समझते है | योगा दिवस का ये मौका संघ और मुस्लिम समुदाय को और करीब लाएगा ऐसा भरोषा अकील खान ने जताया | संघ और मुस्लिमों के बीच पड़ी खाई को पटाने के लिए संघ बड़े स्टार पर काम कर रहा है | संघ के कई विचारक इस काम में लगे है इंद्रेश कुमार ,विकास पाचपोर कई वर्षो से मुस्लिम समुदाय के बीच जाकर काम कर रहे है |

muslim-nagpur-yoda

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement