Published On : Sun, Oct 1st, 2017

नागपुर 50 साल पहले भी प्रगति से शीर्ष पर था आज भी है – अरुंधति भट्टाचार्य


नागपुर: नागपुर मेट्रो द्वारा एसबीआई के साथ मिलकर मल्टी मोबिलिटी कार्ड को लॉंच किया है। माझी मेट्रो के ट्रायल रन समारोह में ट्रायल रन को हरी झंडी दिखाने के साथ ही इस कार्ड को भी जारी किया गया। इस समारोह में मौजूद एसबीआई की चेयरमेन अरुंधति भट्टाचार्य ने नागपुर से जुडी अपनी बचपन की यादो को भी ताज़ा किया।

अरुंधति ने बताया की वह लगभग 50 साल बाद नागपुर वापस आयी है। जब वह छोटी थी तो धंतोली स्थित रामकृष्ण मिशन में रहने वाले अपने एक मामा से मिलने वह अक्सर नागपुर आती थी। इसी नागपुर की सडको में उन्होंने अपने बचपन में एक महिला को स्कूटर चलते हुए देखा था यह तस्वीर आज भी उनके जहन में है। ये मात्र एक तस्वीर नहीं थी यह प्रगति की निशानी थी और आज जब वह 50 साल बाद नागपुर वापस आयी है तो वह इसी शहर द्वारा डिजिटल क्रांति पर उठाये गए अहम कदम की गवाह बन रही है। डिमॉनीटजीजेशन के बाद डिजिटल माध्यम से और कार्ड ट्रांजेक्शन में भारी वृद्धि आयी है। मेट्रो के साथ हमने जो कार्ड तैय्यर किया है वह ओपन लूप कार्ड है जिसके माध्यम से यूटिलिटी बिल पेमेंट की सुविधा उपलब्ध होगी।

नागपुर की प्रगति पर भट्टाचार्य द्वारा कही गयी बात के बाद मुख्यमंत्री ने अपने भाषण में खास तौर से उल्लेख करते हुए बताया की शहर आज भी प्रगति के रास्ते पर ही बढ़ रहा है। 50 साल पहले अपने इसी शहर की सडको पर स्कूटर चलाते हुए एक महिला को देखा था आज ट्रायल रन के दौरान जो मेट्रो को चलने वाली सुमेधा मेश्राम नाम की महिला ही है। कई खासियतों वाले इस कार्ड को मुख्यमंत्री ने राज्य में कही भी इस्तेमाल किये जाने की जानकारी दी।

उन्होंने कहाँ की इसे सर्वत्र नाम दिया गया जिससे इसका कही भी इस्तेमाल किया जा सके। आने वाले दिनों में पुणे मेट्रो और मुंबई मेट्रो को भी इसी तरह के कार्ड से जोड़ा जायेगा। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने इस कार्ड को लॉंच कर मेट्रो द्वारा 200 करोड़ रूपए का खर्चा बचाये जाने पर मेट्रो एमडी ब्रजेश दीक्षित और उनकी टीम का अभिनंदन भी किया साथ ही। एसबीआई चेयरपर्सन भट्टाचार्य से इस कार्ड के हर ट्रांजेक्शन पर एसबीआई द्वारा लिए जाने वाले चार प्रतिशत चार्ज को कम करने की गुजारिश भी की।