Published On : Tue, Jun 20th, 2017

नागपुर विश्वविद्यालय के कॉमन टाईम टेबल के नियम से एडमिशन न देनेवाले कॉलेजों पर होगी कार्रवाई

Nagpur University
नागपुर : 
राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय की ओर से सभी महाविद्यालयों के लिए ‘कॉमन टाईम टेबल ‘ बनाया गया है. जिसके अनुसार ही सभी महाविद्यालयों को नियम के अनुसार ही विद्यार्थियों को प्रवेश देने का निर्णय लिया गया था. लेकिन कुछ कॉलेजों की ओर से नियमों को ताक पर रखकर डोनेशन लेकर एडमिशन दिए जाने की जानकारी सामने आई है. बारहवीं के रिजल्ट 9 तारीख को मिले हैं. जिसके बाद विद्यार्थियों की ओर से प्रथम वर्ष के लिए विभिन्न संकायों में एडमिशन लिए जा रहे हैं.

नागपुर विश्वविद्यालय के टाईम टेबल के अनुसार विद्यार्थियों के आवेदन स्वीकार कर उनकी मेरिट सूची नागपुर विश्वविद्यालय को दी जानी है. लेकिन कई कॉलेजों की ओर से विद्यार्थियों को कहीं एडमिशन फुल बताया जा रहा है या फिर उनसे डोनेशन के नाम पर फीस वसूली जा रही है. मेरिट लिस्ट से पहले एडमिशन भी शुरू कर दिए गए हैं. इससे निपटने के लिए विश्वविद्यालय द्वारा निरीक्षकों की नियुक्ति भी की गई है. यह निरीक्षक कॉलेज में जाकर पड़ताल करेंगे और विश्वविद्यालय की मेरिट लिस्ट के मुताबिक विद्यार्थियों को चुनेंगे.

इस संबंध में कुलगुरु डॉ. सिद्दार्थविनायक काणे ने बताया कि 200 से 300 निरीक्षकों की नियुक्ति की गई है. प्रवेश प्रक्रिया समाप्त होने के बाद निरीक्षकों की ओर यह जांच की जाएगी की महाविद्यालयों से आई मेरिट लिस्ट सही है या नहीं. अगर किसी विद्यार्थी का नाम मेरिट लिस्ट में होने के बावजूद भी उसे एडमिशन नहीं दिया जा रहा है तो विद्यार्थी की शिकायत पर संबंधित कॉलेज पर कार्रवाई की जाएगी.

अगर मेरिट लिस्ट में कोई भी गलती या हेरफेर पायी गई तो दोषि कॉलेज के सभी एडमिशन रद्द कर दिए जाएंगे. कुलगुरु ने कहा कि एनरोलमेंट के लिए जब कॉलेज के आवेदन आएंगे तब निरीक्षकों की ओर से भी जांच की जाएगी. मेरिट लिस्ट के आने के बाद विद्यार्थियों को भी अपनी बात रखने या फिर शिकायत करने का मौका दिया जाएगा.