Published On : Wed, Jul 4th, 2018

विधायक प्रकाश गजभिये की वेशभूषा पर भड़के विधानपरिषद सभापति

नागपुर: बुधवार से नागपुर में शुरू हुए विधिमंडल के शीतकालीन अधिवेशन के पहले दिन एनसीपी विधायक प्रकाश गजभिये चर्चा में रहे। चर्चा में रहने की वजह उनकी वेशभूषा थी जिसको लेकर विधान परिषद सभापति रामराजे निंबालकर ने भी नाराजगी जाहिर की। संभाजी भिड़े की गिरफ़्तारी की माँग करते हुए गजभिये उन्हीं की वेशभूषा में विधिमंडल पहुँचे। हाँथो में आम की टोकरी लेकर प्रदर्शन किया। ये प्रदर्शन भिड़े के उस बयान के विरोध में था जिसमे उन्होंने उनके बगीचे के आम खाने की वजह से बच्चा होने की बात कही थी। भीमा कोरेगाँव में हुई हिंसा में भिड़े का नाम भी उछाला था। गजभिये इसी मामले में गिरफ़्तारी की माँग उठा रहे थे।

अपने इसी नाटकीय अवतार के साथ विधानपरिषद की कार्यवाही में भाग लेने प्रकाश गजभिये सदन पहुँचे। अधिवेशन के पहले दिन बीजेपी के दिवंगत नेता और पूर्व कृषि मंत्री पांडुरंग फुंडकर के लिए रखे गए शोक प्रस्ताव पर चर्चा थी। सदन के नेता चंद्रकांत पाटिल द्वारा रखे इस प्रस्ताव पर अपनी भावना रखने के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने गजभिये का नाम सभापति को सौपा था। लेकिन गजभिये की वेशभूषा को लेकर सभापति ने नाराजगी जताई। सभापति ने कहाँ की उच्च सदन की अपनी गरिमा होती है इसलिए सदस्यों को मर्यादा के अनुसार व्यवहार करना चाहिए। गजभिये जब उनसे मिलने उनके कक्ष में आये थे तभी उन्हें अपना हुलिया बदलकर सदन की कार्यवाही में शामिल होने के लिए कहाँ गया था। पहले तो सभापति ने गजभिये को बोलने की इजाज़त नहीं दी जिसके बाद नेता प्रतिपक्ष धनंजय मुंडे ने उन्हें बोलने की अनुमति देने का आग्रह सभापति से की। जिसके बाद सभापति ने गजभिये को ताक़ीद देकर उन्हें बोलने की अनुमति दी।

विधिमंडल में अपने प्रदर्शन के दौरान गजभिये ने बीजेपी,सेना के साथ कई विधायकों को आम भी खिलाया।