Published On : Sun, Jul 8th, 2018

क्या अधिवेशन के दौरान मानसिकता नागपुर में बस मनोरंजन तक सीमित है ?

नागपुर: विधान भवन की नालियों से शराब और बियर की बोतलें मिलने का मामला शांत हुआ भी नहीं था की अब माननीय विधायकों के निवास से भी शराब की बोतलें बरामद हुई है। सिविल लाइन्स स्थित विधायक निवास परिसर में बड़े पैमानें पर बरामद शराब की बोतलें ये सवाल पैदा करती है की नागपुर में होने वाला अधिवेशन महज़ मौजमस्ती का एक बहाना भर है। वैसे अधिवेशन के दौरान विधायक निवास में साफ़ सफाई के बाद शराब की बोतलें मिलना हर बार की बात है लेकिन इस बार विधान भवन की नालियों में भी ऐसा ही नजारा दिखा था।

जिससे अधिवेशन में भाग लेने राज्य भर से पहुँचने वाले लोगों की जनता के प्रति संजीदगी भरा रवैय्या उजागर होता है। शुक्रवार को ही नागपुर में मूसलाधार बारिश के चलते अधिवेशन को सोमवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया था। लेकिन बड़ी बात ये है की क्या भारी बारिश के बाद शहर के साथ विधान भवन परिसर में जलजमाव की स्थिति उत्पन्न होने पर जाँच की माँग करने वाले नेता ये माँग भी उठाएंगे।

जिससे पुलिस की चाक चौबंद व्यवस्था के बावजूद विधायक निवास में शराब की बोतलें कैसे आयी और किसने लायी इसका खुलासा हो सके। और क्या सरकार इस सत्र के दौरान यह तय करेगी की नागपुर में होने वाला अधिवेशन मौजमस्ती का भविष्य में पर्याय न बने इसके लिए थोड़ उपाय योजना बनायीं जाए।

वैसे नागपुर में स्थित विधायक निवास का जनप्रतिनिधि कम ही इस्तेमाल करते है। उनकी जगह उनके निजी सचिव और कार्यकर्त्ता यहाँ ठहरते है। विधायक निवास में पायी गई शराब की बोतलों पर सार्वजनिक निर्माण विभाग और विधायक निवास के अधीक्षक हेमंत वैरागड़े और सह अधीक्षक ए जी मुंदड़ा इस मामले पर अपनी जिम्मेदारी को झटकते नज़र आये।